- Advertisement -

नाहन के ऐतिहासिक विला राउंड में बसती है प्यारे चंद की सांसे, बना लिया इसे मकसद

वरिष्ठ नागरिकों ने प्यारे चंद को बनाया प्रेरणा स्त्रोत, कहा-सम्मान के काबिल है कार्य

अंजलि त्यागी। नाहन
अपने लिए जीए तो क्या जीए तु जी ए दिल जमाने के लिए, ये पक्तिंया नाहन के बीएसएनएल के कर्मचारी प्यारे चंद पर सटीक बैठती है जो ना केवल प्राकृतिक प्रेमी है बल्की अपना जीवन विला रॉऊड को समर्पित कर चुके। दरअसल बरसात के मौसम में एक व्यक्ति रोज श्याम और सुबह को विला रॉऊड में साफ सफाई करता देखा जा सकता है।

hids

कई लोग तो उस व्यक्ति को नप का कर्मचारी समझ बैठे । परंतु उस व्यक्ति से बात की गई तो उन्होने बताया कि उनका नाम प्यारे चंद है तथा वह बीएसएनएल के ऑफिस में कार्य करते है। इस बात को सुनकर वहा मौजूद कई लोग हैरान हो गए। दरअसल प्यारे चंद विला रॉऊड को साफ सुथरा रखना चाहते है। जिस कड़ी में उन्होने बजाए नगर परिषद अथवा प्रशासन को दोष दिए खुद ही बीड़ा उठा लिया जिसका नतीजा ये रहा कि आज विला राऊड की खूबसूरती को चार चंाद लग गए है।

उन्होने बताया कि वह रोज कटीली झाङ्क्षडय़ों को थोड़ा थेाड़ा साफ करते रहते है ताकि यहां सैर करने आ रहे लोगो को परेशानी न आए साथ ही यहां फैली गंदगी को साफ करते रहते है। ये कार्य वे पिछले कई सालो से करते आ रहे है। इतना ही नही इनके देखा देखी विला राऊड में आ रहे युवा व सीनियर सिटिजन भी उन्ही की तरहा साफ सफाई में अपना योगदान देते आ रहे है।

मौजूद एक सीनीयर सीटिजन कर्नल आरएस पंवार ने बताया कि उन्होने प्यारेचंद को हमेशा ही विला राऊड में झाडिंयां काटते व साफ सफाई करते देखा है। इसलिए इस बार उन्होने भी विला राऊड में करीब 150 आम की गुडलिया मिटटी में दबाई जिनमें से काफी पौधे पनप रहे है। ये देख जहां आत्म संतुष्टि मिलती वही दूसरों के लिए हम पे्ररणा का श्रोत भी बनते है। उन्होने कहा कि प्यारेचंद यहां सैर करने आ रहे सभी लोगो के लिए एक मिसाल बन रहे है। अब खाली समय में हम लोग भी यहा अपना योगदान देते रहते है।

विला राऊड मे बसती है प्यारे चंद की संासे
विला राऊड में अपने जूनूनी अंदाज में काम करने के कारण पर प्यारे चंद जवाब देते है कि वे शुरू से ही प्रकृति प्रेमी है। जब तक वे कार्यालय में होते है वे अपने परिवार के लिए कार्य करते है परंतु श्याम होते ही वे विला राऊंड में चले आते है क्योकि यहां वे खुद से मिलते है। और यहां पौधो पेड़ो के बीच जिंदगी को महसूस करते है। पेड़ो को निहारना, और उनसे बात करना उन्हे बेहद पंसद है। इतना ही नही उनका प्रयास है कि नाहन के विला राऊड में लोगो के लिए एक शौचालय बनवाया जा सके। ताकि यहा महिलाओं को खासकर राहत मिले।

hids

Leave A Reply

Your email address will not be published.