- Advertisement -

ऊना में पारंपरिक पूर्जा अर्चना एवं झंडा रस्म के साथ जिला स्तरीय ऐतिहासिक पिपलू मेला शुरू

आरके शर्मा। ऊना
ऊना जिला का प्राचीन एवं ऐतिहासिक तीन दिवसीय पिपलू मेला आज पारंपरिक पूजा अर्चना एवं झंडा रस्म के साथ शूरू हो गया। ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत कर मेले का शुभारंभ किया। इस अवसर पर वीरेंद्र कंवर ने विभिन्न विभागों की विकासात्मक प्रदर्शनियों एवं वॉलीबाल एवं कबडडी प्रतियोगिता तथा सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी शुभारंभ किया। इस मौके पर वीरेंद्र कंवर ने पिपलू मेला को लेकर प्रकाशित एक स्मारिका का भी विमोचन किया। इससे पहले पारंपरिक ढ़ोल-नगाडों, पारंपरिक वाद्ययंत्रों एवं बैंड-बाजों के साथ मेला कमेटी द्वारा मुख्यातिथि का भव्य स्वागत किया गया।

hids

इस अवसर पर ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने प्रदेश व जिला वासियों को जिला स्तरीय ऐतिहासिक पिपलू की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि यह मेला कांगडा, हमीरपुर तथा ऊना जिलों के धार्मिक के साथ-साथ सांस्कृतिक मिलन का प्रतीक है। उन्होने कहा कि इस मेले में तीन से चार विधानसभा क्षेत्रों के लोग पूरी आस्था के साथ भगवान नरसिंह के चरणों में शीश नवाने पहुंचते हैं तथा अपनी मनोकामनाओं को पूर्ण करते हैं। उन्होने कहा कि पिछली भाजपा सरकार के दौरान मेले को एक नया स्वरूप प्रदान करने का प्रयास किया गया तथा इसे जिला स्तरीय मेले का दर्जा प्रदान किया गया है। उन्होने कहा कि मेले में श्रद्धालुओं के मनोरंजन के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रमों की भी शुरूआत की गई है तथा यहां पर वर्षों से आयोजित होने वाली वॉलीबाल प्रतियोगिता के साथ इस बार कबडडी प्रतियोगिता को भी शामिल किया गया है।

उन्होने कहा कि सरकार भी विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं बारे लोगों में व्यापक जन जागरूकता लाने के लिए विकासात्मक प्रदर्शनियां भी लगाई गई हैं। इसके अलावा इस बार पशु मंडी एवं पशु प्रदर्शनी का भी आयोजन किया जा रहा है जिसके माध्यम से किसानों को भारतीय नस्ल की गायों को प्रदर्शित किया गया है।  वीरेंद्र कंवर ने कहा कि कुटलैहड क्षेत्र में पर्यटन विकास की अनेक संभावनाएं मौजूद हैं जिसके लिए सरकार प्रयासरत है। उन्होने कहा कि जहां पर्यटन की दृष्टि से पिपलू का अपना ऐतिहासिक महत्व है तो वहीं सोलहसिंगीधार के किलों, गोविंदसागर झील सहित अनके ऐसे स्थान मौजूद हैं जहां पर पर्यटन दोहन की अपारसंभावनाएं मौजूद हैं। उन्होने कहा कि कुटलैहड क्षेत्र को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने के लिए सरकार ने पैसा स्वीकृत कर दिया है तथा इस दिशा में जल्द कार्य प्रारंभ किया जाएगा।

उन्होने कुटलैहड विधानसभा क्षेत्र में हुए विकास कार्यों पर चर्चा करते हुए कहा कि जहां पिछली भाजपा सरकार के दौरान बंगाणा में एसडीएम व केंद्रीय विद्यालय स्थापित किए गए तो वहीं 9 पेयजल योजनाओं एवं सैंकडों हैंडपंपों के माध्यम से क्षेत्र की पेयजल समस्या के समाधान के लिए कदम उठाए गए। उन्होने कहा कि इस क्षेत्र में पेयजल समस्या के स्थाई समाधान के लिए सरकार ने 21 करोड रूपये की पेयजल योजना को स्वीकृति प्रदान कर दी है तथा एक वर्ष के भीतर इस परियोजना पर कार्य प्रारंभ हो जाएगा। उन्होने कहा कि पिछले पांच वर्षो के दौरान इस क्षेत्र में ठप्प पडे विकास कार्यों को गति प्रदान की जाएगी।

30 लाख से पिपलू मंदिर तथा 10 लाख से नौण तालाब का होगा जीर्णोद्धार कार्य
वीरेंद्र कंवर ने पिपलू मंदिर के जीर्णोंद्धार कार्य के लिए 30 लाख जबकि प्राचीन नौण तालाब के लिए 10 लाख रूपये की धनराशि स्वीकृत करने की घोषणा की। उन्होने कहा कि इस क्षेत्र में प्राकृतिक पार्क का भी निर्माण किया जाएगा। इसके अलावा पंचायत भवन पिपलू के साथ सामुदायिक भवन निर्माण के लिए 10 लाख रूपये की राशि भी स्वीकृत की। उन्होने कहा कि इस क्षेत्र में स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृढ़ करने के लिए चमियाडी व कोट के बीच में एक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) भी खोली जाएगी। इससे पहले मेला कमेटी की ओर से प्रधान पिपलू बिपन शर्मा ने मुख्यातिथि का स्वागत किया जबकि एसडीएम एवं मेला कमेटी के अध्यक्ष संजीव कुमार ने मुख्यातिथि का स्वागत करते हुए मेले के आयोजन एवं इतिहास बारे प्रकाश डाला।इससे पहले उन्होने कबडडी व वॉलीबाल की खेल प्रतियोगिता का भी शुभारंभ किया। साथ ही विभिन्न विभागों की विकासात्मक प्रदर्शनियों का भी शुभारंभ कर अवलोकन किया। वीरेंद्र कंवर ने ज्योति प्रज्ज्वलित कर सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आगाज किया।

सांस्कृतिक कार्यक्रम में हिमाचल प्रदेश के जाने माने लोक गायक करनैल राणा ने अपने गीतों के माध्यम से उपस्थित श्रोताओं का जमकर मनोरजंन किया। इस बीच सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग कांगडा के नाटय दल ने भी सरकारी योजनाओं का बखान कर लोगों का मनोरंजन भी किया। इस बीच विभिन्न स्कूलों के बच्चों एवं स्थानीय कलाकारों ने भी दर्शकों का खूब मनोरंजन किया। इस अवसर पर मेला कमेटी अध्यक्ष एवं एसडीएम बंगाणा संजीव कुमार, मेला अधिकारी एवं तहसीलदार बंगाणा शमशेर सिंह, पशु पालन विभाग के निदेशक डॉ0 सुदेश चौधरी, डीएफओ यशुदीप सिह, जिला पंचायत अधिकारी रमन शर्मा, पीओ डीआरडीए राजेंद्र गौतम, बीडीओ सोनू गोयल, जिला परिषद सदस्य इंन्दु बाला, मंडल महामंत्री चरणजीत शर्मा, मास्टर तरसेम लाल, राजेंद्र मलांगड, पिपलू प्रधान बिपन कुमार, उप-प्रधान गुलाम दीन, विजय शर्मा, सुरेंद्र हटली, मदन राणा सहित विभिन्न पंचायतों के पंचायत प्रतिनिधि, विभिन्न विभागों के अधिकारी एवं अन्य गण्यमान्य लोग उपस्थित थे।

hids

Leave A Reply

Your email address will not be published.