Exclusive : पहाड़ों से निकल सिरमौरी बेटा न्यूजीलैंड को सिखाएगा मेजबानी का हुनर

अंजलि त्यागी। नाहन स्कूल के समीप पहाड़ों को देखकर ऊंची आसमानी उड़ान नितेश को इस कदर प्रेरित करती थी कि उसने कम उम्र में ही अपने लिए विदेश की लगजरी नौकरी का सपना बुन लिया। इसमें न केवल उसने अपने सपने को सार्थक करने के लिए कड़ी मेहनत की, अपितु खुद को विदेशी दुनियां में ढालने के लिए विदेशी भाषा का ज्ञान भी अर्जित किया। सिरमौर के गांव सेरतदुंला तहसील संगड़ाह के किसान ओमराज ठाकुर ने कभी नहीं सोचा था कि उसका बेटा नितेश ठाकुर एक दिन होटल मेनेजमेंट कर…

Read More

यहां लगती है देवताओं की अदालत, इनके फैसले को मानते हैं सभी देवी-देवता, पढ़े रोचक है इतिहास

बालकृष्ण शर्मा। कुल्लू ज़िला कुल्लू की उझी घाटी में आज भी एक  ऐसा स्थान है जहाँ इंसानो के साथ साथ देवी देवताओं के मामलों का भी निपटारा किया जाता है। इस स्थान पर अगर कोई फैसला लिया गया तो वो सभी देवी देवताओं को मान्य होता है। वही, जब जब भी घाटी में कोई बड़ी आपदा के सम्भावना होती है तो सभी देवी देवता आपस मे मिलकर जगती का भी आयोजन करते है। यह पवित्र स्थान है नग्गर का जगती पट्ट। इस जगती पट्ट में आज भी देवी देवताओं के…

Read More

देवभूमि में यहां पानी के बोतल से कैंसर सहित दर्जनों बीमारियों का ईलाज, जानिये कैसे?

न्यूजघाट टीम। ऊना हर वीरवार को एचआरटीसी वर्कशॉप ऊना में रोजाना कैंसर सहित दर्जनों बीमारियों की इलाज किया जाता है। हैरत कि बात यह है कि इलाज करने वाले कोई चिकित्सक नहीं, बल्कि परिवहन निगम में तैनात हैड मकैनिंग है। मकैनिक किसी दवाई के जरिए नहीं, बलिक मरीज के पेट पर पानी की बोतल रख व अपने झाडफूंक के माध्यम से इलाज करता है। ऐसे में सरकारी सेवाएं देने वाले हैड मकैनिक को तांत्रिक कहना कोई अतिशियोक्ति नहीं होगी। जादुई विद्या से मकैनिंग द्वारा किए जा रहे इलाज के चलते…

Read More

Exclusive : ऐसी औलाद पर किसे न हो फख्र, इस बेटे ने विश्व में बढ़ाया हिमाचल का मान

अंजना शुक्ला। बिलासपुर ऐसी औलाद पर किसे फक्र नहीं होगा, जिसने किशोरावस्था में ही घर में उपलब्धियों का अंबार लगाकर न सिर्फ परिवार, खानदान बल्कि जिला, प्रदेश और देश का नाम रोशन किया हो। बिलासपुर नगर के अप्पर निहाल के मनन सांख्यान का नाम अब गोल्डन बुक आफ वल्र्ड रिकार्ड में भी दर्ज हो गया है। किताब के कवर पेज पर अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा व अन्य अंतर्राष्ट्रीय हस्तियों के साथ बिलासपुर के बालक मनन का फोटो देख किस का सीना गर्व से चौड़ा न होगा। 17 साल…

Read More

देवभूमि में आज ही के दिन 112 साल पहले ऐसी मची थी तबाही, सोच कांप उठती है रूह

अभी चौधरी। फतेहपुर (कांगड़ा) हिमाचल प्रदेश के जिला कांगड़ा में आज से ठीक 112 साल पहले एक ऐसा भूकंप आया था, जिसके नुकसान को सुनकर आज भी यहां के लोग कांप उठते है। महज चंद सेकेंड की कंपन ने ही इस क्षेत्र के करीब 20 हजार लोगों को मौत की नींद सुला दिया था। कई ऐतिहासिक भवनों का नामोनिशान मिट गया था। मौत के सन्नाटे व अनहोनी की आशंका के अलावा यहां कुछ नहीं बचा था। जहां बेहतर भविष्ट की उम्मीदंे जगमगाती थी, वहां उदासी में लिपटी तबाही ही तबाही…

Read More

चाइनिज को भी भा रहा देवभूमि का योग गुरू, हिमाचली बेटे ने चीन में मचाया धमाल

न्यूजघाट टीम। चंबा  रवि भारद्वाज एक ऐसा नाम है, जो आज किसी परिचय का मोहताज नहीं है। जिला चंबा के चब गांव का ये नोजवान आज अपने बलबूते पर चीन के लोगो में भारतीय संस्कृति योग की एक अमीट छाप छोड़ रहा है। भारतीय संस्कृति और योग के प्रचार में लगा रवि आज कई युवाओं के लिए प्रेरणा स्त्रोत है। जिंदगी का सफर रवि के यहां तक पहुंचने का सफर कोई आसान नहीं रहा। कई उतार चढ़ाव पार कर के आज चीन में अपना नाम कमा रहा है। अगर बात…

Read More

देवभूमि की इस बेटी ने किया कमाल, महज 20 साल की उम्र में विश्व की 7 चोटियों पर की फतेह

बिभू शर्मा। कांगड़ा देवभूमि हिमाचल की बेटियों ने बड़े बड़े कारनामे करने में सबको मात दे दी है, अब ऐसा ही एक विश्व स्तरीय कारनामा हिमाचल के जिला कांगड़ा की बेटी ने कर दिखाया है। इस बेटी का नाम है आकृति हीर। आकृति भारत की पहली ऐसी बेटी हैं, जिन्होंने 20 साल की उम्र में यूरोप की सबसे ऊंची चोटी माउंट एलब्रस को फतह किया है। कांगड़ा जिले के सुलियाली गांव की रहने वालीं आकृति ने 2012 में उत्तराखंड के नेहरू इंस्टिट्यूट ऑफ माउंटेनीअरिंग से पर्वारोहण की ट्रेनिंग ली। उस…

Read More

ये है देवभूमि का वंडर किड आर्यमन, 13 साल की उम्र में लिख डाला 300 पन्नो का नॉवेल

बिभू शर्मा। धर्मशाला अक्सर कुछ बाते ऐसी होती हैं जो शायद हमारी कल्पना से भी परे होती हैं। उन बातों पर विश्बास करना हर किसी के लिए अचरज भरा होता है। कहते हैं कि प्रत्यक्ष को प्रमाण की आवश्यकता नहीं होती। जिस उम्र में बच्चे अक्सर पढाई और खेलकूद का शौक रखते हैं या टीवी पर अपने पंसंदीदा कार्यक्रम देखने में मशगूल होते हैं, उन्ही बच्चों की श्रेणी में आता है एक वंडर बॉय, या कह सकते हैं चमत्कारी विलक्षण बुद्धि से भरा ये किशोर जिसने अपनी बुद्धिमता से परे…

Read More

Exclusive : एक गुरू जी ऐसे, सुविधाएं है नहीं, पर राष्ट्रीय स्तर के लिए तराशे 100 हीरे

अशोक बहुता। पांवटा साहिब देवभूमि हिमाचल से एक मात्र पांवटा साहिब उपमंडल के नघेता स्कूल से 100 खिलाड़ी अब तक हाॅकी, बास्केटबाल सहित लोक नृत्य में राष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा चुके हैं। यही नहीं कई मर्तबा स्कूल ने हिमाचल प्रदेश का नाम रोशन करने में भी कोई कसर नहीं छोड़ी। ये आंकड़े तो राष्ट्रीय स्तर के है। बात अगर राज्य स्तरीय की प्रतियोगिताओं की करें, तो यह आंकड़ा तिगुने के करीब पहुंचता है। इस विद्यालय से 270 खिलाड़ी अब तक राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं में अपनीं प्रतिभा…

Read More

देवभूमि में एक ऐसी नदी, जिसे यूनानियों ने माना अपशुगनी, मुगलों ने नाम दिया चीन का पानी

बालकृष्ण शर्मा। कुल्लू हिमाचल प्रदेश के आंचल में एक ऐसी नदी का अस्तित्व जिसे यूनान के लोगों ने अपशुगनी करार दिया था। वहीं, भारत में जब मुगल आए तो उन्होंने इस नदी को चीन के पानी के नाम से नवाजा। बौद्ध धर्म के दर्शन में नदी के पानी को स्वर्ग के पानी की संज्ञा दी गई और महान बौद्ध धर्म गुरू गुरू घंटाल ने भी इसी नदी के संगम स्थल पर कई सिद्धियों का ज्ञान हासिल किया। वहीं, हिंदु धर्मके महान ऋषि लोमश ऋषि ने भी यहां तपस्या की थी।…

Read More