यहां ढोल-नगाड़ों की थाप पर रात भर गूंजी अश्लील गालियां, सदियों से चली आ रही परपंरा

बीके शर्मा। कुल्लू हालांकि सभ्य समाज में गालियों का प्रचलन करीब-करीब बंद सा है। साथ में अश्लील गालियों के लिए तो पूरी तरह से प्रतिबंध रहता है। लेकिन देव कारज में इन सभी परंपराओं का निर्वाह किया जाता है। इसमें किसी तरह का कोई भी प्रतिबंध नहीं रहता है। महिलाओं और युवतियों का भी इसमें किसी तरह की कोई मनाही नहीं रहती है। कारण सीधा सा है देव समाज की परंपराओं का निर्वाह और क्षेत्र की समृद्धि व खुशहाली के लिए ये अश्लील जुमले आवश्यक माने जाते हैं। महाराजा कोठी…

Read More

एक दूसरे पर राख फेंक कर खूब कसे अश्लील तंज, शामिल हुए हजारों लोग

बीके शर्मा। कुल्लू ज़िला कुल्लू की मणिकर्ण घाटी के तहत पड़ने वाले तलपीणी गांव में राख फेंक कर आसुरी शक्तियों को खदेड़ा गया। छार दियाली पर्व पर इस पुरानी परंपरा का निर्वहन किया गया। देवता लाहुआ घोंड के सम्मान में मनाए जाने वाले इस पर्व को तलपीणी और पीणी क्षेत्र के सैकड़ों हारियानों ने मनाया। सुबह देवता लाहुआ घोंड़ और माता भागासिद्ध के मंदिर में पूजा-अर्चना हुई। इसके बाद इस परंपरा को हारियानों और कारकूनों ने बखूबी से निभाया।     कारकूनों के मुताबिक सभी हारियान गांव के नीचे एक…

Read More

देव आदेश पर 42 दिन बंद रहेंगे मंदिर, स्वर्ग प्रवास पर गए सभी देवी-देवता

बीके शर्मा। कुल्लू कुल्लू घाटी के जर्रे-जर्रे में देव आस्था का चमत्कारी प्रभाव अन्य राज्यों के लोगों के लिए किसी अचंभे से कम नहीं है। सदियों से चली आ रही देव अनुकंपा से ही घाटी के समस्त गांव की सत्ता चलती है। देव अनुकंपा का साक्षात उदाहरण रविवार को मनाली के ऐतिहासिक गांव गोशाल में देखने को मिला। गांव में देवलुओं ने देव विधि अनुसार देव आदेश लागू करवाए। आज से 42 दिन तक मंदिर का प्रांगण सुनसान रहेगा। न पूजा होगी और न ही मंदिर की घंटियां बजेंगी। देवालय…

Read More

शिरगुल महाराज के मंदिर निर्माण कार्य का लिया जायजा, काष्ठ शैली में हो रहा तैयार

पवन तोमर। राजगढ़ जिले के उपमंडल राजगढ़ में लगभग डेढ़ करोड़ की लागत से निर्मित होने वाले शाया के शिरगुल महाराज मंदिर की निर्माण प्रक्रिया आरंभ हो गई है। इसके तहत मंदिर में प्रयोग होने वाली लकड़ी पर नक्काशी का कार्य जारी है। इस कार्य का जायजा लेने के लिए भाषा संस्कृति विभाग के जिला भाषा अधिकारी अनिल हारटा विशेष तौर पर नाहन से पहंुचे। याद रहे इस निर्माण में 37 लाख चार हजार नौ सो का योगदान भाषा विभाग के सौजन्य से प्राप्त हुआ है, जिसके चलते विभागीय देख…

Read More

जीत के बाद खिलाड़ी देवी मां को चढ़ाते हैं ट्रॉफी और मेडल, कभी नहीं हारी ये टीम

बीके शर्मा। कुल्लू ज़िला कुल्लू की लगघाटी के आंचल में बसा एक गांव जहाँ युवा खेलों में अपनी जीत के लिए पहले तो देवी मां से आशीर्वाद लेते है और फिर जितने के बाद इनाम को भी उसी मन्दिर में चढ़ा देते है। युवायो के इस काम के चलते मन्दिर में जीती हुई ट्रॉफियां का भी ढेर लग गया है और अब प्रतियोगिता के लिए जाने वाली टीम पहले मन्दिर में माथा टेकना नही भूलती है। ज़िला कुल्लू की लग घाटी के कडिंगचा में सिथत माता फुंगनी का मंदिर हर…

Read More

चिंतपूर्णी में लगेगी धारा-144, जानिये क्या है वजह

न्यूजघाट टीम। ऊना जिला दंडाधिकारी ऊना विकास लाबरू ने जिला की उप-तहसील भरवाईं के अन्तर्गत माता श्री चिंतपूर्णी जी के नव वर्ष मेला के दौरान 31 दिसम्बर, 2017 से 2 जनवरी, 2018 तक धारा 144 लागू रहेगी। इस दौरान कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने के दृष्टिगत जिला ऊना में सुरक्षा व्यवस्था में लगे जवानों को छोडकर किसी भी व्यक्ति द्वारा आग्रेय अस्त्र लेकर चलने पर पूर्ण पाबंदी रहेगी।यह आदेश जारी करते हुए जिला दंडाधिकारी ने बताया कि मेले के दौरान ध्वनि प्रदूषण नियंत्रण में रखने के लिए मंदिर न्यास को…

Read More

बिजली महादेव पर रोपवे से पर्यटन को लगेंगे पंख, कभी PM मोदी की थी पसंदीदा जगह

बीके शर्मा। कुल्लू ज़िला कुल्लू की खराहल घाटी के शीर्ष पर सिथत बिजली महादेव के दर्शनों को अब भक्तों को ज्यादा मुश्किल नही उठानी पड़ेगी। प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने से अब रोपवे के कार्य को भी गति मिलेगी। इस प्रोजैक्ट के लिए प्रशासन द्वारा जगह भी चिन्हित की गई है। पर्यटन विकास विभाग ने वामतट मार्ग और ब्यास के दाईं ओर 5 स्थानों पर जगह को चिन्हित करके उन जगहों से स्पैन को उठाने की योजना बनाई है। हालांकि अभी तक किसी भी जगह को फाइनल नहीं किया…

Read More

लाव-लश्कर के साथ तेरह हारी के फेरे पर निकलेंगे बड़ा देव कमरूनाग

न्यूजघाट टीम। सुंदरनगर बड़ा देव कमरूनाग सोमवार को अपने लाव-लश्कर के साथ तेरह हारी के फेरे पर निकलेंगे। देवता का यह हारी फेर पांच वर्षों के उपरांत आयोजित किया जाता है। इस हारी फेर में देवता के तेरह तोगड़ों की पूजा की जाती है। देवता रोहांडा चौकी, सरण, खलांग, पौडाकोठी, सेगल, सेशधार, तुरांडी, तरजुगी, गडोबरा, औकल आदि हारियों के फेरे पर एक माह रहेंगे। इस हार फेरे को जतरबाड़ा मेला कहा जाता है। इस जतरबाड़ा मेले के दौरान देवता के कारदार भेरा (अतिथ्य ग्रहण करना) पर रहते हैं।    …

Read More

सत बाड़ा देव 26 दिसंबर से 2 माह के भ्रमण पर, 51 थड़ों का करेंगे भ्रमण

न्यूजघाट टीम। सुंदरनगर सुंदरनगर उपमंडल के अंतर्गत नालनी गांव के सत बाड़ा देव 26 दिसंबर को अपने मूल स्थान नालनी से 2 माह के भ्रमण पर प्रस्थान करेंगे। इसके दौरान सत बाड़ा देव अपने 51 थड़ों का भ्रमण कर श्रद्धालुओं को आशीर्वाद देंगे। वहीं रविवार को भ्रमण के सफल आयोजन के लिए सत बाड़ा देव की कोठी में बैठक का आयोजन किया गया।     इसकी अध्यक्षता देव कमेटी के प्रधान शिव सरन द्वारा की गई। बैठक में कमेटी के उप प्रधान सीएम ठाकुर, सचिव रूप लाल ठाकुर, कोषाध्यक्ष नंद…

Read More

गुरू की नगरी पांवटा साहिब में गुरू गोबिंद सिंह जी के 350वें प्रकाशोत्सव की धूम

न्यूजघाट टीम। पांवटा साहिब पंज प्यारों की अगुवाई में नगर कीर्तन गुरुद्वारा श्री पांवटा साहिब से शुरू किया गया। इस दौरान भव्य पालकी में गुरु ग्रंथ साहिब को सजा कर रखा गया था। इसके दर्शनों के लिए पूरा नगर सड़कों पर उमड़ पड़ा। गुरू गोबिंद सिंह की पावन धरती पांवटा साहिब में गुरू गोबिंद सिंह के प्रकाशोत्सव में हजारों लोगों ने हिस्सा नवाया। सिखों के दसवें गुरू गुरू गोबिंद सिंह का 350 वां प्रकाशोत्सव पर बुधवार को भव्य नगर कीर्तन का आयोजन किया गया।     प्रकाशोत्सव के लिए पड़ोसी…

Read More

40 साल बाद सुलझा देवलुओं का विवाद, देवताओं के मिलन से हुआ समझौता

बीके शर्मा। कुल्लू उपमंडल बंजार में बीते 40 वर्षो से चले आ रहे हारियानों व देवलुओं के विवाद को आखिर देवताओं के मिलन से सुलझा लिया गया। गत दिनों देवता विष्णु लक्ष्मी नारायण कलवारी के गुर ने करीब 40 वर्षो के बाद पलाहच पंचायत के आराध्य देवता ईश्वर महादेव जमद शक्ति स्थल में विवाद का हल निकाला। कारदार लक्ष्मी नारायण कलवारी हरमेश शर्मा, कारदार ईश्वर महादेव पलाहच कुर्म दत्त, महता दलीप ¨सह, भंडारी शेष नाग एमएस राठौर, काईथ बीनू ठाकुर आदि ने बताया कि 40 साल पूर्व देवता ईश्वर महादेव…

Read More

सिरमौर में इस पर्वत पर बैठकर भगवान शिव-मां पार्वती ने देखी थी महाभारत (Watch Pics)

सुरेश कुमार। सराहां नाहन-शिमला राष्ट्रीय राजमार्ग पर पच्छाद निर्वाचन क्षेत्र के सराहां कस्बे से मात्र 12 किलोमीटर दूर पर्वत शिखर पर समुद्र तल के करीब 6800 फुट ऊंचाई पर स्थित है,भूरेश्वर महादेव (भूर्शिंग) का प्राचीन शिव मंदिर। मंदिर के चारों ओर मनोहर दृश्य देखते ही बनता है। प्राचीन किवदंती के अनुसार द्वापर युग में इस पर्वत शिखर पर बैठकर भगवान शिव व मां पार्वती ने महाभारत का युद्ध देखा था। तभी से यहां पर स्वयं भू शिवलिंग की उत्पत्ति मानी जाती है।प्राचीन प्रचलित कथा के अनुसार क्वागधार के समीप लगते…

Read More

आखिर स्वर्ग रवाना हुए देवी देवता, 1 माह के बाद खुलेंगे मंदिरों के द्वार

बीके शर्मा। कुल्लू पौष संक्रांति के बाद जिला कुल्लू के सभी देवी-देवता स्वर्ग लोक की यात्रा पर निकल गए हैं। इस दौरान देवी देवालयों के कपाट बंद रहेंगे और जिले में कोई देव कारज भी नहीं होगा। कुल्लू के अधिष्ठाता देवता बिजली महादेव के कपाट करीब तीन माह के लिए चैत्र संक्रांति तक बंद रहेंगे और इस बीच देवता का कपाट शिवरात्रि को एक दिन के लिए खुलेगा। जिला कुल्लू में सबसे अमीर देवी-देवताओं में शुमार देवता खुडीजल एक माह बाद माघ संक्रांति को स्वर्गलोक से वापस लौटेंगे। इसके साथ…

Read More

44 साल बाद नए रथ पर विराजे देवता गढ़पति मूल शेषनाग, पढ़िए रोचक है खबर

बीके शर्मा। कुल्लू बंजार उपमंडल मुख्यालय से आठ किलोमीटर दूर जीभी घाटी की दो खाड़ागाढ़ व तिलोकपुर कोठियों के अधिष्ठाता देवता गढ़पति मूल शेषनाग के नए रथ का प्रतिष्ठापना समारोह मनाया गया। इस अवसर पर जीभी घाटी देव वाद्यों की ध्वनि से गूंज उठी। इस अवसर पर कई देवी-देवताओं ने कारकूनों, हारियानों व शेषनाग के भक्तों ने भाग लिया। इससे पहले 21 दिसंबर, 1973 को गढ़पति मूल शेषनाग जीभी का देवरथ बना था व इसकी प्रतिष्ठा हुई थी। अब 44 वर्ष बाद उनके नए देवरथ का निर्माण कार्य छह दिसंबर…

Read More

Watch Pics : आस्था के आगे नहीं टिका बर्फीला, 3 साल बाद लाहौल घाटी के दौरे पर राजा घेपन

बीके शर्मा। कुल्लू ज़िला लाहौल स्पीति की लाहौल घाटी में बर्फबारी के बावजूद राजा घेपन का दौरा अभी भी जारी है। यहां आस्था के आगे बर्फीला तूफान भी हार गया है। सैकडो देवलू अभी भी राजा घेपन की परिक्रमा में शामिल हैं। बर्फ के फाहों के बीच देवलू व कारकून देवता संग घर-घर की परिक्रमा कर रहे हैं। ग्रामीण भी बर्फ के फाहों के बीच अपने आराध्यदेव का स्वागत कर रहे हैं।      आस्था के अनुसार उम्मीद यह जाहिर की गई थी कि राजा घेपन के देवालय में प्रवेश…

Read More

पोष संक्रांति को स्वर्ग जाएंगे कुल्लू के 300 देवता, देवताओ के मंदिर के कपाट होंगे बंद

बीके शर्मा। कुल्लू पोष संक्रांति 15 दिसंबर से जिला कुल्लू के करीब 300 देवी-देवता स्वर्ग लोक की यात्रा पर जाएंगे। इस दौरान देवी-देवताओं के कपाट बंद रहेंगे और न ही कोई देव कारज होगा। अधिष्ठाता देवता बिजली महादेव को कपाट करीब तीन माह के लिए चैत्र संक्रांति तक बंद रहेगा और इस बीच देवता का कपाट शिवरात्रि को एक दिन के लिए खुलेगा। जिला कुल्लू में सबसे अमीर देवी-देवताओं में शुमार देवता खुडीजल एक माह बाद माघ संक्रांति को स्वर्गलोक से वापस लौटेंगे। इसमें सबसे अधिक देवी देवता बंजार घाटी…

Read More

गिरीपार में शुरू होने लगी माघी त्यौहार की तैयारियां, सदियों से चली आ रही परंपरा

संजय कंवर। पांवटा साहिब गिरिपार क्षेत्र में माघी त्योहार की तैयारियां बडे़ जोरों से चली हुई है। सिरमौर जनपद का गिरिपार क्षेत्र जो हाटी के नाम से जाना जाता है, कई मायनों में अन्य क्षेत्रों से भिन्न है। खासकर पुरानी परंपराओं व लोक संस्कृति को अपने आप में संजोए यह क्षेत्र आज के इस बदलते दौर में अपने आप में एक अनूठी मिसाल कायम किए हुए है।      भौगोलिक स्थिति व जलवायु भिन्न होने के कारण भी कई मेले व त्योहार इस क्षेत्र में पारंपरिक रीति-रिवाजों के साथ बड़ी…

Read More

शमशी में माता ज्वाला के नवनिर्मित मंदिर की प्रतिष्ठा संपन्न

बीके शर्मा। कुल्लू जिला कुल्लु के शमशी में माता ज्वाला का नया मंदिर बन कर तैयार हो गया। रविवार को नए मंदिर प्रतिष्ठा का दो दिवसीय कार्यक्रम संपन्न हुआ और माता का रथ नए मंदिर में विराजमान किया गया। इस धार्मिक आयोजन में विशेष रूप से फोजल से माता ज्वाला , धारा से चामुंडा माता ढोल-नगाड़े और अपने हरियानो के साथ पधारी। वही, खोखन से देवता आदि ब्रम्हा , जनाल से बाबा वीर नाथ , हुरला से बाबा वीर नाथ , ढालपुर से बाबा वीर नाथ और चोंग से पार्वती…

Read More

नए रथ पर 44 वर्षों बाद विराजेंगे बंजार घाटी के देवता गढ़पति मूल शेषनाग जिभी

बीके शर्मा। कुल्लू ज़िला कुल्लू की बंजार घाटी के देवता गढ़पति मूल शेषनाग जिभी 44 वर्षों बाद नए रथ पर विराजेंगे। नए रथ निर्माण कार्य छह दिसंबर से शुरू होगा। रथ निर्माण होने पर कुल्लवी धाम का आयोजन किया जाएगा। बंजार घाटी से आठ किलोमीटर की दूरी पर घने जंगल की ओट में बसा जिभी गांव देवता गढ़पती मूल शेषनाग के गृह क्षेत्र से भी प्रसिद्घ है। बंजार क्षेत्र में गढ़पति मूल शेषनाग का अपना एक विशेष स्थान है। जिभी के चेंऊंट में देवता की मंदिर कोठी है। देवता की…

Read More

एक ही पेड़ की लकड़ी से और 1 सप्ताह में तैयार हुआ माता त्रिपुरा सुंदरी का रथ, देखें VIDEO

बीके शर्मा। कुल्लू देवभूमि कुल्लू की उझी घाटी के नग्गर की अधिष्ठाती देवी त्रिपुरा सुंदरी का नया देवरथ एक सप्ताह में बन कर तैयार हो गया है। देवरथ को 17 साल बाद दोबारा बनाया गया है। इस रथ की खास बात यह है कि देवरथ को एक ही पेड़ की लकड़ी से तैयार किया गया है। माता का मन्दिर चारों तरफ से घने देवदार के वृक्षों से घिरा हुआ है और पूरा मन्दिर काष्ठकुनी शैली में बना हुआ है। नए रथ की विधि विधान से पूजा अर्चना के लिए माता…

Read More

हिमाचल में यहां अर्जुन को मिला था ब्रह्मास्त्र, जीर्णोद्धार की राह ताक रही अर्जुन गुफा

बीके शर्मा। कुल्लू तप प्राप्ति के लिए देवभूमि कुल्लू में जहां देवी-देवताओं, ऋषि-मुनियों आदि ने तपस्या की है, वहीं प्राचीन समय में पांडवों ने भी दर-दर भटकते हुए देवभूमि कुल्लू के कई स्थानों में तपस्या करने के लिए स्थान चुना। ऐसी ही एक तपोस्थली ऊझी घाटी स्थित मनाली के जगतसुख से सटे शुरू गांव के समीप स्थित अर्जुन गुफा अपनी विशेष महत्व रखती है। करीब 30 मीटर में फैली प्राकृतिक गुफा ऐसे अज्ञात स्थान पर है जो हर किसी व्यक्ति को ढूंढने से नहीं मिलती है। मान्यता है कि जब…

Read More

कोकसर के ग्रांफू तक आएगा राजा घेपन का काफिला

न्यूजघाट टीम। मनाली 24 अक्टूबर को लाहुल घाटी के भ्रमण में निकले देवता राजा घेपन कोकसर के ग्रांफू तक आने के बाद अपने देवालय सिसू दस्तक देंगे। देवता उदयपुर के मडग्रां तक देवलूओं को आशीर्वाद देने पहुंचते थे लेकिन इस बार देवता ने पटन घाटी के जाहलमा से ही वापसी कर ली। राजा घेपन की यात्रा में सैंकडों कारकून और देवलू भाग ले रहे है। राजा घेपन के गुर सोनम ने बताया कि देवता कोकसर के ग्रांफू तक भ्रमण करने के बाद अपने देवालय लौट जाएंगे।

Read More

दीवाली भी होती है बूढ़ी, यकीन नहीं, तो देखिए 125 गांव कैसे मनाते हैं उत्सव ?

न्यूजघाट टीम। पांवटा साहिब सिरमौर जिला के गिरिपार क्षेत्र की एक सौ से अधिक पंचायतों में कालांतर से बूढ़ी दिवाली मनाए जाने की एक अनूठी परंपरा है। कुछ क्षेत्रों में बूढ़ी दिवाली को मशराली के नाम से मनाया जाता है। दिवाली के एक मास उपरांत अर्थात अमावस्या की रात को गिरिपार क्षेत्र में बूढ़ी दिवाली को बड़े हर्षोल्लास एवं पारंपरिक तरीके के साथ मनाए जाने की परंपरा बदलते परिवेश के बावजूद भी प्रचलित है। इसके अतिरिक्त सिरमौर जिला के साथ लगते शिमला जिला के कुछ गांव और उतराखंड के जौनसार…

Read More

शमशरी महादेव और टौणानाग की भावपूर्ण विदाई के साथ धोगी बूढ़ी दिवाली संपन्न

बीके शर्मा। कुल्लू देशभर में जहां दीवाली पर्व धूमधाम से संपन्न हो चुका है, वहीं हिमाचल प्रदेश व उत्तराखंड के कुछ क्षेत्र ऐसे भी हैं जहां दीवाली के ठीक एक माह बाद धूमधाम से बूढ़ी दीवाली मनाई जाती है। कुल्लू ज़िला के आनी व निरमंड में दीवाली के समापन के एक माह बाद बूढी दिवाली का आयोजन हर वर्ष धूमधाम से किया जाता है। यही नहीं सिरमौर जिले के शिलाई के क्षेत्र, शिमला जिले के चौपाल, जनजातीय जिला लाहुल स्पीति और सीमावर्ती उत्तराखंड में भी इस उत्सव को मनाने की…

Read More

Watch Pics : गुरू की नगरी पहुंचे श्री श्री रविशंकर, ऐतिहासिक गुरूद्वारा में नवाया शीश

न्यूजघाट टीम। पांवटा साहिब आध्यामित्क क्षेत्र में ख्याति पाने वाले गुरू परम पूज्य श्री श्री रविशंकर रविवार को गुरू की नगरी पांवटा साहिब पहुंचे। यहां उन्होंने ऐतिहासिक गुरूद्वारा में शीश नवाया और अपने सैंकड़ों की संख्या में अनुयायियों ने उनका जोरदार स्वागत किया। गुरूद्वारा प्रबंधक कुलवंत सिंह ने श्री श्री को श्रोपा भेंट किया ओर उनका अभिनंदन किया। उनके सर्मथकों ने उनको अनेकों उपहार भंेट किए। श्री श्री रविशंकर श्रद्वालुओं से मिले ओर उन्हें आर्शीवाद दिया। बताते चले कि परम पूज्य श्री श्री रविशंकर रविवार को देहरादून से चंडीगढ़ जा…

Read More

6 दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मेला श्री रेणुका जी संपन्न, राज्यपाल देवव्रत ने किया समापन

न्यूजघाट टीम। श्री रेणुका जी 6 दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय श्री रेणुका जी मेला आज शाम सिरमौर जिला के रेणुका में संपन्न हुआ। राज्यपाल आचार्य देवव्रत समापन समारोह की अध्यक्षता की। समापन पर लोगों को संबोधित करते हुए राज्यपाल ने कहा कि पारंपरिक गीतों, लोक कला और लोक वाद्ययंत्र आज भी प्रासंगिक थे और हमारी प्राचीन संस्कृति को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि मेले और त्यौहार हमारी संस्कृति का दर्पण है और इनके आयोजन, राज्य की संस्कृति पर प्रकाश डाला जाना चाहिए, ताकि युवा पीढ़ी को राज्य की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत के…

Read More

बडू साहिब में गुरू नानक देव जी के प्रकटोत्सव की धूम, गुरू भक्ति में डूबे लोग

न्यूजघाट टीम। राजगढ़ गुरु नानक देव के जन्मोत्सव के उपलक्ष्य में दो दिन से बड़े हर्षोल्लास से मनाया जा रहा हैं। चार दिन से सुबर चार बजे से प्रभात फेरी में सभी गुरु भक्त अपनी श्रद्धा भाव के साथ शिरकत कर रहे है। 3 दिसंबर को इंटरनल यूनिवर्सिटी बडूसाहिब में गुरु नानक देव की जीवनी पर एक सेमिनार का आयोजन किया गया। इस सेमिनार में सभी शिक्षकांे ने अपने गुरु वचनांे से विद्यार्थियों को गुरु वचनांे की महिमा, उसकी जीवन में उपयोगिता व एक सार्थक जीवन जीने में इनकी महत्ता…

Read More

गुरू की नगरी में गुरू नानक देव जी के प्रकटोत्सव कीधूम, निकला भव्य नगर कीर्तन

न्यूजघाट टीम। पांवटा साहिब उपमंडल पांवटा साहिब में गुरु की नगरी पांवटा में श्री गुरू नानक देव जी के प्रकटोत्सव दिवस पर भव्य नगर-कीर्तन निकाला गया जिसकी अगुवाई पंच प्यारों ने की। इस दौरान नगर-कीर्तन में पांवटा नगरी में आस्था का सैलाब बह गया। इस पावन अवसर पर सिख समुदाय के इलावा सभी धर्मो के हजारों लोग नगर-कीर्तन में भाग लेते नजर आए।नगर कीर्तन के दौरान गतका दल के कलाकारों ने हतप्रभ कर देने वाले खेल दिखाकर दर्शकों का खूब मनोरंजन किया। नगर-कीर्तन में विभिन्न बैंड टीमें, रंगीन परिधानों में…

Read More

अंतरराष्ट्रीय मेला श्री रेणुका जी शुरू, CM वीरभद्र सिंह ने सके पहुंचे, जानिये वजह

न्यूजघाट टीम। नाहन मां-बेटे के मिलन का प्रतीक अंतरराष्ट्रीय मेला श्री रेणुका जी आज से भगवान श्री परशुराम की जन्मस्थली श्री रेणुका जी में शुरू हो गया है। इस मेले की खास परंपरा यह भी रही है कि इस मेले का शुभारंभ राज्य के मुख्यमंत्री द्वारा किया जाता है और समापन राज्यपाल द्वारा। मगर इस बार राज्य की बागडोर संभाले रहे सीएम वीरभद्र सिंह इस मर्तबा रेणुका जी मेले का उद्घाटन नहीं कर सके। चूंकि आचार संहिता लागू होने की वजह से चुनाव आयोग ने इसकी इजाजत नहीं दी। आज…

Read More

आखिर आ गई मां-बेटे के मिलन की वो घड़ी, जिसका पूरे साल रहता है बेसब्री से इंतजार

न्यूजघाट टीम। श्री रेणुका जी मां पुत्र के पावन मिलन का श्री रेणुकाजी मेला हिमाचल प्रदेश के प्राचीन मेलांे में से एक है, जो हर वर्ष कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की दशमी से पूर्णिमा तक उतरी भारत के प्रसिद्ध तीर्थस्थल श्रीरेणुका में मनाया जाता है। जनश्रुति के अनुसार इस दिन भगवान परशुराम जामूकोटी से वर्ष में एक बार अपनी मां रेणुका से मिलने आते है। यह मेला श्रीरेणुका मां के वात्सल्य एवं पुत्र की श्रद्धा का एक अनूठा संगम है जोकि असंख्य लोगों की अटूट श्रद्धा एवं आस्था का…

Read More

नाहन : गुरूद्वारा श्री दशमेश अस्थान में कार सेवा शुरू, सैंकड़ों सिख युवाओं ने की सेवा

न्यूजघाट टीम। नाहन ऐतिहासिक गुरूद्वारा श्री दशमेश अस्थान साहिब में आज संगतों के ठहरने, समेत अन्य सुविधाओं से लैस बनने वाले बहुमंजीला इमारत की आज पहली मंजील का लैंटर डाला गया। इस दौरान सैंकड़ों की सं या में संगतों ने कार सेवा में भाग लिया। गुरूद्वारा दशमेश अस्थान साहिब के तहत बनी कार सेवा सोसायटी के प्रेमपाल सिंह व जीतेंद्र सिंह ने बताया कि आज गुरूद्वारा श्री दशमेश अस्थान साहिब के लिए बनने वाले बहुमंजीला इमारत की पहली मंजील का लैंटर डाला गया है। जिसमें स्थानीय लोगों समेत बडू साहिब…

Read More

जगन्नाथ रथयात्रा में उमड़ा जनसैलाब, भक्ति में डूबी गुरू की नगरी

न्यूजघाट टीम। पांवटा साहिब पांवटा साहिब में हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी भक्ति, श्रद्वा, सबूरी, सहयोग एवं सौहार्द से परिपूर्ण जगन्नाथ रथ यात्रा का आयोजन बडे ही हर्षोल्लास के साथ किया गया। जगन्नाथ रथयात्रा बद्रीपुर शिव मन्दिर से प्रारम्भ होकर मुख्य बाजार पांवटा से होतेे हुए भगवान श्री विश्वकर्मा मन्दिर में सम्मन्न हुई । बजरंग दल पांवटा की टीम ने भी इस आयोजन में भरपूर सहयोग दिया। श्री जगन्नाथ रथयात्रा में क्षेत्र के हजारों लोगों ने रस्सा खिचकर धर्म का लाभ उठाया। लोगों ने प्रभु के दुर्लभ दर्शन…

Read More

गुरू की नगरी में छठ पूजा की धूम, हजारों पहुंचे यमुनाघाट पर, की पूजा अर्चना

न्यूजघाट टीम। पांवटा साहिब गुरू की नगरी पांवटा साहिब में छठ पूजा की धूम रही। पूर्वांचल के लोगों ने पांवटा साहिब में छठ पूजा के दिन लोगों ने यमुनाघाट पर एकत्रित होकर सूर्य की पूजा की। पांवटा साहिब के यमुनाघाट पर देर शाम को सूर्य भगवान को अर्घ्य देने के लिए पूर्वांचल के लोगों का तांता लग गया था। इस दौरान उन्होंने केले, चकोतरा, ईख और कई प्रकार के पकवान का भोग लगाकर पारंपरिक गीत गाए। महिलाओं ने यमुना घाट की सफाई करने के बाद सूर्य को जल चढ़ाया। उल्लेखनीय…

Read More

पांवटा साहिब में मां त्रिपुर बालासुंदरी सहस्त्रचंडी महायज्ञ शुरू

न्यूजघाट टीम। पांवटा साहिब पांवटा साहिब में श्री मेहंदीपुर बाला जी महाराज सेवा समिति द्वारा मां त्रिपुर बाला सुंदरी सहस्त्रचंडी महायज्ञ नगर परिषद के खेल मैदान में शुरू हुआ। इसकी जानकारी मीडिया प्रभारी मंयक चौहान ने दी। उन्होंने बताया कि इस दौरान शहर में कलश यात्रा निकाली गई, जिसमें भारी संख्या में महिलाओं ने भाग लिया। इस भव्य आयोजन में सोमवार 23 अक्तूबर से 30 अक्तूबर तक श्रीमद भागवत पुराण कथा का आनंद प्राप्त कर सकते है।      इस दौरान विशेष रूप से नवशक्ति पीठों की पावन पवित्र अखंड…

Read More

हिमाचल में एक ऐसा गांव, जहां बरसों से नहीं मनाई जाती दिवाली, वजह कर देंगी आपको दंग

न्यूजघाट टीम। हमीरपुर भारत के सबसे बड़े पर्व दीवाली को लेकर जहां हर जगह जोर शोर से तैयारियां चली हुई हैं। वहीं हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिला में सम्मू गावं ऐसा है जहां पर सैकड़ों सालों से दीवाली मनाना तो दूर की बात दीवाली पर घर पर पकवान तक नहीं बनाए जाते है। जी हां ऐसा शापित गांव संम्मू जहां पर लोगों का मानना है कि किसी ने दीवाली मनाने की कोशिश की तो गांव में या तो आपदा आती या फिर अकाल मृत्यु हो जाती है। जिस कारण सैकडों…

Read More

लंका दहन के साथ देव महाकुंभ अंतरराष्ट्रीय कुल्लू दशहरा संपन्न, हजारों ने खींचा रघुनाथ का रथ

बीके शर्मा। कुल्लू ज़िला कुल्लू के मुख्यालय ढालपुर में चल रहर 7 दिवसीय अंतरराष्ट्रीय दशहरा उत्सव का लंका दहन के साथ समापन हो गया है। देवताओं के इस महाकुंभ में हजारों लोगों सहित सैंकड़ों देवी-देवताओं ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई। विश्व के सबसे बड़े देव महाकुंभ एवं अनूठी परंपराओं का संगम कुल्लू दशहरा पर्व में रघुनाथ की रथ यात्रा के बाद विधिवत रूप से शुक्रवार को लंका दहन के नजारे के हजारों लोग गवाही बने। लिहाजा, सात दिनों तक चलने वाले इस महाकुंभ में सैंकड़ों देवी-देवताओं के साथ रघुनाथ…

Read More

देवता “धूमल” दशहरा रथ यात्रा के ट्रैफिक इंचार्ज, अकेले ही हजारों की भीड़ को हटाने में सक्षम

बीके शर्मा। कुल्लू एक ऐसा देव जो नाग के नाम से जाना जाता है। खास बात तो यह है कि दशहरा उत्सव में जब पुलिस भी भीड़ को हटाने में बेबस हो जाती है तो वो अकेला ही हजारो लोगो की भीड़ को हटाने में सफल होता है। इतना ही नही अगर इसके देव स्थान पर कोई व्यक्ति अशुद्धि कर दे तो देवता का रथ अपने आप ही चलना शुरू कर देता है। ऐसे में कई बार देवता के हारियानों को देव रथ को ही बांधना पड़ता है। ताकि वो…

Read More

कुल्लू : भगवान रघुनाथ के कैंप में हुआ 18 करोड़ देवी-देवताओं को महामिलन

बीके शर्मा। कुल्लू देवसमागम अंतरराष्ट्रीय दशहरा उत्सव के छठे दिन वीरवार को ढालपुर मैदान देवी-देवताओं की ध्वन लहरियों से जहां गुंजायमान हो उठा वहीं, ऐसा प्रतीत हुआ कि एक बार फिर धरती पर देवलोक से सारे देवता उतर आए हों। मुहल्ले के दिन सभी देवी-देवता अपने अस्थाई शिविर से बाहर निकले और ढोल-नगाड़ों की थाप पर भगवान रघुनाथ के कैंप व नरसिंह भगवान की चनणी तक पहुंचे। इस दौरान देवी-देवताओं की रथ यात्रा से ढालपुर मैदान सराबोर रहा। विश्व के सबसे बड़े देव महाकुंभ अंतरराष्ट्रीय कुल्लू दशहरा उत्सव में रविवार…

Read More

त्रिलोकपुर में नवरात्र मेले के दौरान अब तक 76 हजार श्रद्धालुओं ने किए मां के दर्शन

न्यूजघाट टीम। कालाअंब। त्रिलोकपुर महामाया माता बालासुन्दरी मन्दिर त्रिलोकपुर में चल रहे आश्विन नवरात्र मेले के 13वें दिन तक लगभग 76 हजार श्रद्धालुओं ने माता के दर्शन किए तथा श्रद्धालुओं द्वारा अब तक 97 लाख रुपये नगद राशि, 89 ग्राम 850 मिलीग्राम सोना व 11 हजार 775 ग्राम चांदी माता के मंदिर में अर्पित की गई।    एसडीएम एवं सदस्य सचिव कृतिका कुल्हारी ने जानकारी देते हुए बताया कि नवरात्रे के तेहरवे दिन आज लगभग 5 हजार श्रद्धालुओं ने माता के दर्शन कर आशीर्वाद प्राप्त किया तथा 12 हजार रूपये…

Read More

कुल्लू : अस्थाई शिविर में चंद्राउली नृत्य पर खूब नाचे देवलू, ऐसे होगा शक्ति का अवतार

बीके शर्मा। कुल्लू ढालपुर मैदान में सजे भगवान रघुनाथ जी के अस्थाई शिविर में पुरात्न चंद्राउली नृत्य की धूम शुरू हो गई है। यह नृत्य लंका दहन के दिन तक चलता रहेगा। चंद्राउली नृत्य की धूम देखने वालों का भी खूब हजूम उमड़ रहा है। सांय काल के वक्त होने वाले इस नृत्य में जहां देवलू खूब नाच रहे हैं। वहीं अंतिम दिन यह नृत्य सुबह तक चलता रहेगा। सुबह के समय शक्ति का आह्वान लंका दहन से पूर्व कि या जाएगा। इसके बाद चंद्राउली के दौरान शक्ति प्रकट होगी…

Read More

व्यापार, पर्यटन-मनोरंजन की दृष्टि से दशहरा उत्सव की अद्वितीय पहचान, उत्सवों का बन गया है सिरमौर

बीके शर्मा। कुल्लू कुल्लू का दशहरा हिमाचल प्रदेश के उत्सवों का सिरमौर बन गया है। यूं तो यहां मंडी की शिवरात्रि, चंबा में मिंजर मेला, सुजानपुर टिहरा में होली, शिमला में समर फेस्टिवल, रामपुर की लवी भी कम प्रसिद्ध नहीं है। लेकिन देवताओं की गोद में बसा कुल्लू अपनी अनूठी देव संस्कृति के लिहाज उत्सवों के फलक पर प्रसिद्ध है। ख्याति का लबादा दशहरा ने अपनी देव परंपरा से ही पहना है। फिर प्रगति के इस सफर में प्रदेश ने अपनी समृद्ध संस्कृति व सभ्यता की अनमोल थाती को बखूबी…

Read More

भगवान रघुनाथ जी के अस्थाई शिविर में सैंकड़ों देवी-देवता प्रतिदिन नवा रहे हैं शीश

बीके शर्मा। कुल्लू देवमहाकुंभ अंतरराष्ट्रीय दशहरा उत्सव का मुख्य आकर्षण रहने वाले अधिष्ठाता भगवान रघुनाथ का शिविर भक्तिमय हो उठा है। देवता के अस्थाई शिविर में सुबह से शाम तक घाटी के आराध्य देव अपनी उपस्थिति दर्ज करवा रहे हैं। प्रात: के समय ही भगवान रघुनाथ जी की षोडशोपचार के बाद भव्य श्रृंगार किया गया तथा राम सीता, हनुमान व नरसिंह भगवान ही विधिवत तरीके से पूजा की गई। यह ऐतिहासिक व पुराण संगत पूजा भगवान राम जी के कारदार अठाहर करड़ू के छड़ीबरदार महेश्वर सिंह तथा रघुनाथ जी के…

Read More

6 दिनों तक प्रतिदिन 8 बार होगा भगवान रघुनाथ जी का श्रृंगार, बनता है आकर्षण का केंद्र

बीके शर्मा। कुल्लू देवी-देवताओं के महाकुंभ दशहरा उत्सव में भगवान रघुनाथ जी का अस्थाई कैंप जहां आकर्षण का केंद्र बना हुआ है वहीं, रघुनाथ जी का श्रृंगार एक दिन में आठ बार किया जा रहा है। रघुनाथ जी दशहरा उत्सव के अधिष्ठाता देव माने जाते हैं। रघुनाथ जी रोज सीता माता के साथ सज-धज कर अपने अस्थाई शिविर में अपने सिंहासन पर विराजमान होते हैं। दशहरा पर्व में हर रोज रघुनाथ जी का श्रृंगार सुंदर वस्त्रों तथा कीमती आभूषणों से किया जाता है। यहीं नहीं ढालपुर मैदान के बीचों-बीच बने…

Read More

परंपरा निभाने में लीन कुल्लू के “राजा”, देवनीति को छोड़ राजनीति नहीं कर सकते महेश्वर सिंह (Pics)

बीके शर्मा। कुल्लू दशहरा उत्सव की परंपरा निभाने में कुल्लू के राजा महेश्वर सिंह लीन हैं। राज परिवार से ही दशहरा पर्व का महत्व जुड़ा है। रघुनाथ जी की रथ यात्रा से लेकर लंका दहन तक कुल्लू के राजा महेश्वर सिंह को देवनीति की परंपरा निभानी पड़ती है। सुबह सांय जहां महेश्वर सिंह रघुनाथ जी पूजा अर्चना में व्यस्त रहते है वहीं दिन को राजा की जलेब चलती है। यहां खास बात यह है कि देवनीति को छोड़कर देव कारजों में कुल्लू के राजा राजनीति नहीं कर सक ते हैं।…

Read More

गोली कांड से खंडित हुई थी कुल्लू दशहरे की रथ यात्रा, 1972-73 में नहीं निकली थी रथ यात्रा

बीके शर्मा। कुल्लू देवमहाकुंभ अतंरराष्ट्रीय स्तर पर मनाए जा रहे कुल्लू दशहरा उत्सव की रथ यात्रा की अखंड परंपरा 1661 में राजा जगत सिंह के समय में हुई थी। मगर 1661 से बेरोकटोक चल रही रघुनाथ की रथ यात्रा की यह अखंड परंपरा 1971 में गोली कांड से खंडित हुई थी। उसके बाद यह रथ यात्रा दो साल नहीं निकली। उल्लेखनीय है कि 1971 में उस समय के प्रशासक ने उस रास्ते को किन्हीं कारणों से बंद कर दिया था जहां से रघुनाथ की पालकी निकलती थी। मगर पाबंदी के…

Read More

विश्व शांति का प्रतीक देवमहाकुंभ कुल्लू दशहरा उत्सव में अस्थाई शिविरों में हो रहा है देव मिलन

बीके शर्मा। कुल्लू देवमहाकुंभ अंतरराष्ट्रीय दशहरा उत्सव में देवताओं के इस आपसी भव्य मिलन से देव समाज इसे एक अच्छा संकेत मान रहा है। हालांकि दशहरे के पहले, छठे और अंतिम दिन ढालपुर मैदान में पहुंचे समस्त सामूहिक रूप से परस्पर मिलते हैं, मगर देवता के कार-करिदों को अपने-अपने देवी देवताओं को देव विधि के अनुसार अस्थाई शिविरों में ही देव मिलन करवाया जा रहा है। देवताओं के कारदारों का कहना है कि देवता एक-दूसरे देवताओं से मिलने की इच्छा जाहिर करते हैं तो देवताओं को अस्थाई शिविरों में ले…

Read More

Watch Pics : ढालपुर में भगवान नरसिंह की भव्य जलेब, सदियों से चली आ रही राजा की जलेब की प्रथा

बीके शर्मा। कुल्लू देवमहाकुंभ अंतरराष्ट्रीय दशहरा पर्व में भगवान नरसिंह की जलेब भी निकली। रविवार को देवी-देवताओं की पुरातन संस्कृति को जिंदा रखने के लिए नरसिंह भगवान की जलेब का आगाज हुआ। विश्व के सबसे बड़े देव महा समागम अंतरराष्ट्रीय दशहरा उत्सव में आज भी सैंकड़ों वर्षों पुरानी परंपरा जिंदा है और लोग इसका निर्वाह कर रहे हैं।     आकर्षण का केंद्र रहने वाली नरसिंह भगवान की जलेब में भव्य नजारा नजर आया और इस दौरान कुल्लू शहर वाद्ययंत्रों की ध्वनि से गूंज उठा। इस जलेब को राजा की…

Read More

इंसान की भांति देवताओं की भी आपस में बंधी है रिश्तों की डोर, बड़ी रोचक है ये खबर

बीके शर्मा। कुल्लू ढालपुर में आयोजित दशहरा उत्सव में इंसान ही नहीं बल्कि देवी-देवताओं की भी आपस में रिश्तों की डोर बंधी होती है। जिसका उदाहरण अंतरराष्ट्रीय कुल्लू दशहरा में बखूवी देखने को मिलता है। देवमहाकुंभ अंतरराष्ट्रीय दशहरा उत्सव में आज भी देव संस्कृति के बूते पूरी दुनिया में अपनी अनूठी मिसाल पेश करने वाले कुल्लू में देवताओं की रिश्तेदारी प्रथा आज तक कायम है। जिसका आज तक देवी-देवता बखूवी निर्वाह कर रहे हैं। लिहाजा, आम आदमी की तरह देवता भी आपस में रिश्ते की डोर से बंधे हुए हैं।…

Read More

कुल्लू दशहरा उत्सव में भाग नही लेते देवताओ के दादा, राजा की सेना भी नही ला पाई थी देवता को

बीके शर्मा। कुल्लू दशहरा उत्सव में जहाँ सैंकड़ो देवी देवता ढालपुर में अपनी उपस्थिति दर्ज करते है। वही, कुछ देवता ऐसे भी है जो देवताओ के महाकुम्भ से दूर रहते है। ज़िला कुल्लू की लग घाटी के आराध्य देव कतरूसी नारायण भी इसमें शामिल है। कतरूसी नारायण को देवी देवताओं के दादा की संज्ञा दी गई है। कहा जाता है कि लगघाटी के देवता दशहरा पर्व की परंपरा को नहीं मानते है। लग रियासत को जीतने के बाद भी कुल्लू का राजा यहां के देवताओं को कुल्लू दशहरे में सम्मलित…

Read More

राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने किया अंतरराष्ट्रीय दशहरा महोत्सव का शुभारंभ

बीके शर्मा। कुल्लू अंतराष्ट्रीय कुल्लू दशहरा महोत्सव आज पारंपरिक हर्षालास एवं उत्साह के साथ आरंभ हो गया। राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने कुल्लू के प्रसिद्ध ढालपुर मैदान में भगवान रघुनाथ जी की रथयात्रा में भाग लेकर दशहरा महोत्सव का शुभारंभ किया। इस अवसर पर लेडी गवर्नर श्रीमती दर्शना देवी भी उपस्थित थीं। दशहरा के पावन अवसर पर ज़िला और प्रदेश के लोगों को बधाई देते हुए राज्यपाल ने कहा यह उत्सव बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है।    उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश की संस्कृति बहुत समृद्ध व अद्वितीय…

Read More