राजगढ़ में एसएचओ पर मारपीट के आरोप, गुस्साएं लोगों ने सड़कों पर की नारेबाजी

न्यूजघाट टीम।  नाहन
जिला सिरमौर के राजगढ़ थाना प्रभारी द्वारा एक व्यक्ति के साथ मारपीट किएउ जाने और बाद में उसके खिलाफ झूठा मामला दर्ज किये जाने की धमकी देने और उस व्यक्ति की शिकायत थाना में दर्ज न किये जाने के खिलाफ स्थानीय युवाओं ने न केवल पूरे शहर में जोरदार प्रदर्शन किया, बल्कि इस बाबत प्रशासन को भी शिकायत सौंपी। साथ ही सैंकड़ो लोग पुलिस थाना पहुंच कर जोरदार नारे बाजी और प्रदर्शन करते रहे। इससे पहले की बात आगे बढती एसडीएम ने गुस्साए लोगों से बात करने खुद पुलिस थाना पहुंचे और मामले को शांत करवाया।

   मामला तब तक ठंडा नहीं हुआ, जब तक थाना प्रभारी से सार्वजनिक रूप से सबके सामने माफी नहीं मांगी। मामले के पीड़ित जोगिंद्र सिंह जग्गी द्वारा प्रशासन को दिए गये पत्र में बताया गया है कि गत शाम जब वह और कुछ अन्य लोग कोटली स्थित एक ढाबे पर खाना कहा रहे था, तो उस दौरान थाना प्रभारी पुलिस जीप में दो अन्य कर्मचारियों के साथ वहां आए और उसके साथ मारपीट करनी शुरू कर दी। जब पीड़ित व्यक्ति ने अपने साथियों को मारपीट किये जाने की वीडियो बनाने का अनुरोध किया तो थाना प्रभारी उसे घसीट कर ढाबे से बाहर लेकर आए और फिर से मारपीट की।

negi
chauhan

    सुबह जब जोगिंद्र सिंह थाना प्रभारी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करवाने थाने गया गया तो उसके खिलाफ थाना प्रभारी झूठा मुकदमा बनाने और हवालात में डालने के लिए पुलिस कर्मचारियों को कहा। साथ ही उसके साथ अन्य लोगो के खिलाफ भी मुकदमा बनाने को कहा, ताकि वो लोग उसकी गवाही न दे सके। पीड़ित व्यक्ति यह सुन पुलिस थाना से आ गया और इस बारे व्यापार मंडल और अन्य लोगांे से बात की, जिसके चलते एकाएक सैंकड़ो लोग सडक पर उतर आये और थाना प्रभारी मुर्दाबाद, पुलिस गुंडा गर्दी नहीं चलेगी नारे लगाते हुए उपमंडलाधिकारी, डीएसपी के कार्यालय गए, लेकिन अधिकारी अवकाश के चलते उपलब्ध नहीं हुए तो अंत में नायब तहसीलदार को शिकायत पत्र सौंपा।

     उसके बाद फिर यह जुलुस पूरे शहर से हो कर सोलन रोड स्थित पुलिस थाने पहुंचा, जहां युवाओं ने केवल अपना गुस्सा उप मंडलाधिकारी एसडी नेगी के समक्ष निकाला, बल्कि थाना प्रभारी ने सार्वजनिक रूप से माफी मांगने के बाद मामला शांत हुआ। इस दौरान पूरे मामले का न केवल सोशल मिडिया पर प्रसारण हुआ, बल्कि अधिकारियों की बातों को भी रिकार्ड के लाइव किया गया है। बेशक मामला आपसी समझोते से उप मंडलाधिकारी एसडी नेगी के समझाने पर समाप्त हो गया, लेकिन उससे पहले मामला सोशल मीडिया में पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय बन गया। उधर इस मामले में एसएचओ राजगढ़ ने पूछे जाने पर कहा कि गलती के लिए क्षमा मांगी गई है।

Facebook Comments

Related posts