देश को पदक दिलाने वाली आंचल के पिता से PM मोदी भी सीख चुके हैं पैराग्लाइडिंग

न्यूजघाट टीम। मनाली
देश के लिए तुर्की में फेडरेशन अंतरराष्ट्रीय स्कींइग (FIS) द्वारा आयोजित अंतरराष्ट्रीय स्कीइंग कप में पहली बार मेडल जीतने वाली आंचल ठाकुर के पिता रोशन ठाकुर भी साहसिक कार्यों के लिए प्रसिद्ध हैं। रोशन ठाकुर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी पैराग्लाइडिंग में प्रशिक्षण दे चुके हैं। एक सशक्त राजनेता के रूप में विख्यात मोदी साहसिक खेलों के भी शौकीन रहे हैं। यही कारण है कि जब भी उन्हें फुर्सत मिलती थी तो मनाली चले आते थे। प्रधानमंत्री जब साल 2001 तक हिमाचल भाजपा के प्रभारी रहे तो रोशन ठाकुर के साथ पैराग्लाइडिंग, ट्रैकिंग व रॉक क्लाइबिंग सहित मोदी ने लगभग हर साहसिक गतिविधि में हाथ आजमाए हैं। मनाली की सोलंग वैली में होने वाली पैराग्लाइडिंग के तो मोदी दीवाने थे। वर्ष 1997 से लेकर 2000 तक मोदी तीन बार पैराग्लाइडिंग के रोमांच का अनुभव करने सोलंग आए। सोलंगनाला और बरुआ की वादियों में रोशन ठाकुर कई बड़ी हस्तियों को उड़ान दे चुके हैं। वहीं, स्कीइंग में भी उन्होंने कई बार खिलाड़ियों को ढलानों से रफ्तार दी है।

1997 में पहली बार की थी पीएम मोदी ने पैराग्लाइडिंग
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जीवन की पहली ‘उड़ान’ साल 1997 में सोलंग में भरी। उन्होंने मनाली के बुरुआ गांव निवासी रोशन ठाकुर के साथ पैराग्लाइडिंग की। इस साहसिक खेल से प्रभावित मोदी ने गुजरात में भी पैराग्लाइडिंग की संभावनाओं को तलाशा। मोदी अकसर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के साथ मनाली आते थे। उस दौरान समय निकाल कर वह सोलंग में पैराग्लाइडिंग करना नहीं भूलते थे। मनाली के रहने वाले रोशन ठाकुर देश के पहले प्रशिक्षित पैराग्लाइडर हैं। रोशन ने बताया कि पीएम मोदी ने पैराग्लाइडिंग करते हुए सोलंग की वादियों के ऊपर से उड़ान भरने की इच्छा जाहिर की थी। पीएम उस दौरान एक प्रोफेशनल एडवेंचरर की तरह बेखौफ उड़े। रोशन ने बताया कि वर्ष 2000 के मनाली दौरे के दौरान मोदी ने उनसे संपर्क किया। मोदी ने कहा कि वह और उनके कुछ राजनीतिक मित्र पैराग्लाइडिंग करने के लिए सोलंग आना चाहते हैं। इस दौरान मोदी ने उड़ान भरते हुए उनसे ऊटी जाकर पैराग्लाइडिंग पर विस्तृत रेकी करने को भी कहा।

negi

गुजरात के युवाओं को भी दिया प्रशिक्षण
रोशन ठाकुर उस समय यह नहीं समझ पाए कि आखिर मोदी के मन में क्या चल रहा है। उनकी यह जिज्ञासा 2012 में जाकर शांत हुई। जब मोदी ने उन्हें हिमाचल से कुछ और पैराग्लाइडर के साथ गुजरात आने का निमंत्रण दिया। रोशन ठाकुर ने बताया कि उन लोगों ने गुजरात के कुछ युवाओं को पैराग्लाइडिंग का प्रशिक्षण दिया। तब से लेकर सापुतारा में हर वर्ष पैराग्लाइडिंग फेस्टिवल आयोजित किया जा रहा है।

chauhan

पीएम के मुंह से नाम सुनकर भावुक हो गए थे रोशन
हिमाचल में विधानसभा चुनाव के दौरान कुल्लू के ढालपुर में आयोजित चुनावी रैली के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक रैली को संबोधित करते हुए अपने पैराग्लाइडिंग के अनुभवों को साझा किया। इस दौरान रैली में वह व्यक्ति भी मौजूद था जिसने पीएम को पैराग्लाइडिंग सिखाई थी। पीएम ने अपने संबोधन में उन्हें पैराग्लाइडिंग सिखाने वाले रोशन ठाकुर का नाम लिया, जिसे सुनकर रोशन ठाकुर काफी भावुक हो गया।

  प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें हमेशा से ही एडवेंचर स्पोर्टस काफी आकर्षित करता आया है और वे जब भी हिमाचल जाते थे एडवेंचर करना पसंद करते थे। इसी के साथ ही उन्होंने एडवेंचर कराने वाले अपने ‘गुरु’ रोशन का नाम भी लिया।आपकों बता दें कि तुर्की में फेडरेशन अंतरराष्ट्रीय स्कींइग (FIS) की ओर से आयोजित स्कीइंग कप में हिमाचल के मनाली की 21 साल की आंचल ठाकुर ने भारत का नाम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चमकाया है। आंचल ठाकुर ने इस प्रतियोगिता मे तीसरा स्थान हासिल किया है। आंचल इस स्कीइंग प्रतियोगिता में फिस इवेंट में पदक जीतने वाली भारत की पहली स्कीयर भी बन गई हैं। इससे पहले आज तक किसी भी भारतीय खिलाड़ी ने अंतरराष्ट्रीय स्कीइंग प्रतियोगिता में मेडल हासिल नहीं किया है। आंचल ने तीसरे स्थान पर रहकर भारत को कांस्य पदक दिलाया है। अब आंचल की 9 फरवरी, 2018 से दक्षिण कोरिया में आयोजित होने जा रहे शीतकालीन ओलंम्पिक के लिए भी क्वालीफाई होने की संभावना बढ़ गई है। आंचल की इस उपलब्धि से मनाली घाटी में खुशी की लहर है।

पीएम मोदी और सीएम जयराम ने दी बधाई
आंचल ठाकुर की इस उपलब्धि के लिए पीएम मोदी ने अपने अधिकारिक ट्वीटर हैंडल में आंचल को बधाई दी है और इस जीत को देश की एक बड़ी कामयाबी करार दिया है। वहीं, हिमाचल के सीएम जयराम ठाकुर ने भी आंचल को बधाई दी और राज्य सरकार की तरफ से 5 लाख देने की घोषणा की।

Facebook Comments
vishal-garments

Related posts