Good Story : प्यार ने भर दिए तेजाब के भी जख्म, एक दूसरे के हुए जफां और जाकिर

न्यूजघाट टीम। कांगड़ा
इंसानियत और प्रेम के आगे तेजाब से मिले गहरे जख्म भी भर गए और एक-दूसरे के हो गए जफां व जाकिर। हिमाचल के कांगड़ा जिले की लंज पंचायत के चकवन डूहकी गांव में प्रेम की एक ऐसी ही मिसाल देखने को मिली। तेजाब कांड में बुरी तरह से झुलसी जफां (शालू) के साथ खुंडियां के समेतर के रहने वाले उसके फौजी मंगेतर जाकिर ने निकाह कर लिया। जफां का निकाह पहले 6 नवंबर को जाकिर के साथ होना निश्चित हुआ था, लेकिन 26 अक्तूबर को लंज के चकवन डूहकी में दो चचेरी बहनों ने पीने के पानी के लिए अपने ही चाचा की लड़की जफां पर तेजाब से हमला कर दिया। जफां तेजाब हमले में गंभीर घायल हो गईं। उस दौरान चीन बॉर्डर पर सेवाएं दे रहे जफां के मंगेतर जाकिर घर छुट्टी पर आए थे। जाकिर को घटना की जानकारी मिली तो वे जफां का इलाज करवाने के लिए पहुंच गए।

vishal-garments

eFashini

    जाकिर टांडा मेडिकल कॉलेज कांगड़ा से लेकर आईजीएमसी और पीजीआई तक अपनी मंगेतर की देखरेख करते रहे। न्यूजपोर्टल अमर उजाला के मुताबिक अभी भी जफां का इलाज चल रहा है। हर रोज मरहम पट्टी के लिए शालू को अस्पताल ले जाना पड़ता है। पालमपुर के मारंडा में आंखों का चेकअप करवाने के लिए जफां के पति जाकिर लेकर गए हैं। पीजीआई में चेकअप के लिए ले जाना है। जफां के पिता मुंशीदीन ने बताया कि जाकिर ने किसी की परवाह किए बिना उनकी बेटी का साथ दिया। जाकिर ने आखिर 30 नवंबर को तेजाब हमले के एक महीने चार दिन बाद शालू से निकाह करने की बात रखी। इसे हम भी नकार नहीं सके। दोनों का निकाह सादगी के साथ कर दिया गया। जफां के ससुर जलालदीन और सास गुलामू बीबी भी हालचाल पूछते रहे। मुंशीदीन ने जफां के लिए ऐसा जीवन साथी मिलने पर भरी आंखों से जाकिर की प्रशंसा की।

  • Email : info@brazatyres.com | brazatyres@gmail.com Office : 8894339123 | Mobile : 9816022546

तेजाब फेंकने वाली चचेरी बहने हिरासत में
तेजाब हमले में फिलहाल जफां उर्फ शालू की दोनों चचेरी बहनें और सगी ताई पुलिस हिरासत में हैं। बताया जाता है कि तेजाब फेंकने के लिए दोनों बहनों को सगी ताई ने तेजाब दिया था।

Facebook Comments

Related posts