6 साल की मासूम सिमरन को सैंकड़ों ने नम आंखों से दी श्रद्धांजलि, देर शाम अंतिम संस्कार

बिभू शर्मा। कांगड़ा
अब वो बापिस नही आएगी, शायद भगवान को यही मंजूर था, होनी को कौन टाल सकता है, ऐसे ही कुछ शव्दों से खुंडिया क्षेत्र में ग्रामीण और रिश्तेदार सिमरन के परिजनों को ढांढस बंधा रहे थे।

      आज सुबह हुई मार्मिक घटना से सबको झकझोर कर रख दिया है। आज सुबह ज्वालामुखी क्षेत्र की तहसील खुंडिया में हुए दर्दनाक हादसे में सात वर्षीय सिमरन की मौके पर ही बस के टायर के नीचे आ जाने से मौत हो गयी थी, शव दो घण्टे तक बस के नीचे ही पड़ा रहा और लोंगो का गुस्सा फूट पड़ा था।पुलिस ने मामला सम्भालते हुए जैसे तैसे मामले को शांत किया और शव पोस्टमार्टम के लिए टाण्डा अस्पताल भेज दिया था। जानकारी के अनुसार शव के पोस्टमार्टम के बाद बच्ची का शव आज देर शाम परिजनों को सौंप दिया गया था। परिजनों और सैंकड़ो ग्रामीण बासियो ने देर शाम ही बच्ची सिमरन का दाह संस्कार कर दिया है।

       दाह संस्कार में सैंकड़ो नम आंखों से फूल सी बच्ची को श्रंद्धाजलि दी गई।जिप सदस्य विजेन्द्र कुमार भी दाह संस्कार में शामिल हुए और परिजनों को ढांढस बंधवाया। परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है, और तरफ माहौल ग़मगीन बना हुआ है।फिलहाल पुलिस मामले की बारीकी सी जांच पड़ताल कर रही है।

vishal-garments
Facebook Comments

Related posts