देवभूमि का एक ओर बहादुर बेटा देश पर कुर्बान, मणिपुर में बम विस्फोट में पाई शहादत

न्यूजघाट टीम। मंडी
देश की सुरक्षा में तैनात हिमाचल का एक और जवान वतन पर कुर्बान हो गया है। मणिपुर के चंदेल जिले में सोमवार सुबह हुए एक आईईडी ब्लास्ट में मंडी के पंडोह निवासी 35 वर्षीय राइफल मैन इंद्र सिंह समेत दो जवान शहीद हो गए। छह जवान घायल हुए हैं। पुलिस के मुताबिक राजधानी इंफाल से 64 किलोमीटर दूर चंदेल शहर के महामनी गांव में सुबह के समय जवान गश्त कर रहे थे तो उनके शिविर के पास एक धमाका हो गया। इसमें राइफल मैन इंद्र सिंह और सोहन लैन की जान चली गई। उपायुक्त मंडी मदन चैहान ने कहा कि प्रशासन को जवान के शहीद होने की सूचना मिली है।

vishal-garments

    सोमवार शाम को जैसे ही परिजनों को सूचना मिली, पूरे क्षेत्र में शोक की लहर छा गई। इंद्र सिंह अपने पीछे माता, पत्नी और छह साल का बेटा छोड़ गए हैं। पिता का पहले ही देहांत हो चुका है। मंगलवार को पैतृक गांव पंडोह में शहीद का सैनिक सम्मान के साथ अंतिम संस्कार होगा। इंद्र वर्ष 2003 में असम राइफल में भर्ती हुए थे। आईईडी धमाके में एन श्याम कुमार, एस सरकार, तीरेंद्र नाथ दास, राम गोविंद सिंह, निर्मल राय और लालनुनपुइया घायल हुए हैं। इंद्र सिंह के मामा मान सिंह ने बताया कि भांजे की शहादत पर उन्हें फख्र है। असम राइफल के अधिकारियों ने सूचना दी कि इंद्र सिंह की पार्थिव देह हवाई जहाज से चंडीगढ़ लाई जा रही है। यहां से सड़क मार्ग से पंडोह गांव पहुंचाई जाएगी। शहीद का परिवार पंडोह में नए घर में रहता है। उनका पुराना घर पंडोह के बग्योध में है।

    मान सिंह ने बताया कि उनका भांजा जुलाई में छुट्टी पर घर आया था। रविवार रात को ही उसने घर फोन कर पत्नी इंद्रा देवी और मां से बात की थी। परिजनों को अपना ख्याल रखने और जल्द घर आने की बात कहकर फोन रख दिया। सोमवार को उनकी शहादत की सूचना मिलने के बाद परिवार वालों का रो-रोकर बुरा हाल है। छह साल का बेटा अपने पिता का इंतजार कर रहा है।

Facebook Comments

Related posts