कुल्लू-मनाली में पर्यटन कारोबार हुआ मंदा, अब बर्फबारी पर टिका दारोमदार

न्यूजघाट टीम। कुल्लू। मनाली
विश्व विख्यात पर्यटन नगरी कुल्लू-मनाली में इन दिनों कारोबार मंदी की मार झेल रहा है। चुनावी बिगुल के बाद कुल्लू-मनाली में कम पर्यटक पहुंच रहे हैं, जिस कारण पर्यटन कारोबारियों के चेहरों पर चिंता की लकीरें साफ नजर आ रही हैं। कुल्लू-मनाली में हजारों परिवारों की रोजी-रोटी का जरिया पर्यटन कारोबार ही है, जो इन दिनों मंदी की मार झेल रहे हैं। आलम यह है कि होटलों में 60 फीसद तक कमरे खाली पड़े हैं। होटल व्यवसायी पर्यटकों को तीस से पचास फीसद तक छूट दे रहे हैं।

vishal-garments

     व्यवसायियों का कहना है कि बीते वर्ष की अपेक्षा इस बार उनका करीब 30 फीसद कारोबार पहले ही प्रभावित हो चुका है। इन दिनों भी कुल्लू-मनाली के होटलों में 60 से 70 फीसद कमरे खाली पड़े हैं। सड़कों की बदहाल स्थिति भी कारोबार को प्रभावित कर रही है। क्रिसमस और न्यू इयर मनाने कुल्लू व मनाली इस बार पर्यटकों की संख्या में इजाफा हो सकता है। इस लिहाज से पर्यटन कारोबारी उम्मीद लगाए बैठे हैं। पर्यटन कारोबारियों को अब विंटर सीजन में कारोबार चमकने की उम्मीद है। रोहतांग के दीदार को हजारों की तादाद में सैलानी के पहुंचने की उम्मीद है।

    कारोबारियों ने सीजन को के लिए तैयारियां भी शुरू कर दी हैं। उम्मीद जताई जा रही है कि दिसंबर में बर्फ के दीदार को भारी मात्रा में पर्यटक कुल्लू और मनाली पहुंचेंगे। नागचला से मनाली तक बनने वाले फोरलेन कार्य के चलते भी कई पर्यटक कुल्लू-मनाली का रुख नहीं कर रहे हैं। यहां दिनभर घंटों जाम के कारण मनाली पहुंचना मुश्किल हो गया है। यही कारण है कि पर्यटक कुल्लू व मनाली आना पसंद नहीं कर रहे हैं।

कुल्लू-मनाली में पर्यटकों की संख्या में कमी आई है। उम्मीद है कि बर्फबारी होने के बाद सैलानी कुल्लू-मनाली का रुख करेंगे। इसके अलावा क्रिसमस व न्यू ईयर मनाने भी पर्यटक कुल्लू-मनाली पहुंचते हैं। -भाग चंद नेगी, जिला पर्यटन अधिकारी कुल्लू

Facebook Comments

Related posts