Watch Video : झोटों की लड़ाई से शुरू हुआ ऐतिहासिक सायर मेला, देखकर हो जाएंगे हैरान

वीएस पाठक। शिमला
शिमला के मशोबरा ने शनिवार को झोटों की लड़ाई से ऐतिहासिक सायर मेला शुरू हुआ। मेले में खण्ड मशोबरा के सैंकड़ो लोग मेले में पहुंच कर मेले का लुत्फ़ उठाया ।इस दौरान कई सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया । यह मेला मशोबरा के तलाई में लगता है ।तलाई में स्थित भद्र काली के मंदिर के पुजारी हरीश शर्मा ने बतया की मान्यता के अनुसार यह मेला सदियों पुराना है । मान्यता के अनुसार पौराणिक काल में कोटि रियासत के राजा की यहाँ की देवी ने नालदेहरा में बिलासपुर के राजा के साथ युद्ध में सहायता की थी ।

vishal-garments

     देवी ने तब कोटि रियासत के राजा से बचन लिया था कि वह इस इलाके की रक्षा करेंगी लेकिन उन्हें प्रतिवर्ष अशिवन माह के संक्रांति को नर बलि चाहिए । यह राजा ने बचन दिया ओर प्रथा शुरु हुए  धीरे धीरे नर बलि खत्म हुई और इसका स्थान भैसों ने ले लिया ।फिर देवी ने कहा कि उन्हें हर साल झोटों यानी भैसों का खून चाहिए । तब से यह मेला प्रतिवर्ष अशिवन माह के संक्रांति को लगता है और झोटों की लड़ाई से मेला शुरू होता है । पुरे दिन भर मेला चलता हे पारंपरिक के अनुसार मेले में जलेबी और पकोड़े के स्टाल ही लगते है और सांस्कृतिक कार्यक्रम होते है ।

Facebook Comments

Related posts