देवभूमि में ब्लू व्हेल गेम से पहली मौत! 5वीं कक्षा का छात्र फंदे से झूला

न्यूजघाट टीम। शिमला
शिमला जिला के ठियोग में 10 वर्षीय बच्चे ने रहस्यमयी परिस्थितियों में फंदा लगाकर जान दे दी। ठियोग के देहा बल्सन के बागड़ी पंचायत में हुए इस सनसनीखेज मामले से इलाके में दहशत फैल गई । ठियोग के देहां में बच्चे  की इस मौत को लेकर दुनिया भर में मौत का खेल बन चुके’ब्लू व्हेल गेमÓ से जोड़कर देखा जा रहा है। बच्चे के पास से सुसाईड नोट भी बरामद हुआ है। पुलिस इस मामले की पड़ताल में जुट गई है।

    हालांकि इस पूरे मामले में पुलिस ने बच्चे की ब्लू व्हेल गेमÓ से आत्महत्या करने से इंकार किया है। आत्महत्या करने वाला 10 वर्षीय बच्चा अपने माता-पिता की इकलौती संतान था। वह निजी स्कूल में पांचवी कक्षा का विद्यार्थी था। मंगलवार रात्रि वह अचानक घर से बाहर निकला, लेकिन वापिस लौट कर नहीं आया। परिवार वालों ने उसकी तलाश शुरू की। बच्चा घर से सटे एक ढारे में फंदे से लटका देख परिजनों के होश उड़ गए । परिजनों ने आनन-फानन में उसे ठियोग अस्पताल लाया लेकिन वहंा पहुंचते ही  डक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने घरवालों से इस संदर्भ में बात की और उनके बयान दर्ज किए। शिमला पुलिस अधीक्षक सौ या सांबशिवन का कहना है कि बच्चे के शव का पोस्टमार्टम करवा दिया गया है।

    पोस्टमार्टम रिपोर्ट आनी अभी बाकी है। सुसाईड नोट के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इस बारे जांच पड़ताल की जा रही है। यह पता लगाया जा रहा है कि इसे बच्चे ने सुसाईड नोट खुद  लिखा था या नहीं। सुसाईड नोट की सत्यता जांचने के लिए इसे फारेंसिक लैब भेजा जाएगा। यह मामला ब्लू व्हेल गेम से जुड़ा है ऐसा अभी तक कोई भी प्रमाण नही मिला है

vishal-garments
Facebook Comments

Related posts