यहां आसमानी बिजली गिरने से गांव के लोगों को सता रहा यह डर, रखी ये मांग

न्यूजघाट टीम। रामपुर बुशहर
हिमाचल के ऊपरी व पहाड़ी क्षेत्र में आसमानी बिजली अक्सर गिरती रहती है, जिससे यहां के लोगों को खतरा बना रहता है। बरसात के समय लोगों में भी आसमानी बिजली गिरने का भय बना रहता है। आसमानी बिजली के गिरने से काफी नुकसान भी होता है। आज कल यहां पर हालात इस कदर है कि लोग जंगल में जाने से डर रहे है। अपने पशुओं को भी आसमानी बिजली गिरने के भय से उन्हें चराने के लिए भी नही छोड़ा जा रहा है। हाल ही में शिमला जिले के रामपुर में कुहल पंचायत व नरैण पंचायत में कई मवेशियों की आसमानी बिजली गिरने से मौत हो चुकी है। जिससे मवेशी पालकों को भारी नुकसान भी हुआ है। हिमाचल सरकार को इसके लिए कड़े कदम उठाने चाहिए क्योंकि इससे मवेशियों की ही नही बल्की मनुष्य की भी जाने जाती है। ऐसा ही एक मामला ननखरी में भी पेश आया था जिसमें दो युवकों की मौके पर ही मौत हो गई थी और इसमें एक पुलिस विभाग के अधिकारी को भी हल्की चोटे आई थी।

      गौर हो की आसमानी बिजली गिरने के बचाओं के लिए ऊंची चोटियों पर लाईटींग अरैस्टर या सर्ज अरैस्टर लगाए जाने चाहिए। जब आसमानी बिजली गिरेगी उस समय यह इन अरैस्टरों पर ही गिरेगी। इसका उधारण नाथपा झाकड़ी में देखने को मिल रहा है यहां पर 15 सौ मेगावाट हाईड्रो प्रोजैक्ट में भी लाईटींग अरैस्टर लगाए गए है जो प्रोजैक्ट की सुरक्षा में खरे उतर रहे है। लाईटींग अरैस्टर को लगाने से आसमानी बिजली का शिकार होने से बचा जा सकता है। नही तो आने वाले समय में न जाने कितनों की जाने यह आसमानी बिजली नीगल जाएगी।

इस बारे में एससी विद्युत विभाग रामपुर का कहना है कि ऐसा हमारे पास लाईटींग अरैस्टर व सर्ज अरैस्टर लगाने का कोई प्रावधान नही है लेकिन जहां से हतारी सप्लाई जाती है वहां पर बसे ट्रासफ र्म में लाईटींग अरैस्टर लगा दिए जाते है। यह अरैस्टर सभी ट्रांसफरमर में लगें है। इस बारे में एसजेवीएनएल के महाप्रबंधक संजीव सुद का कहना है कि उन्होंने भी 15 सौ मेगावाट हाईड्रो पावर प्रोजैक्ट में लाईटींग व सर्ज अरैस्टर लगाए गए है वह अच्छे से कार्य कर रहे है। यहां पर भी आसमानी बिजली गिरती रहती है लेकिन अरेस्टर लगाने से बचाओ हो रहा है।

Related posts

Comments are closed.