बंजार उपमंडल के 60 गांवों में 2 महीनों से बिजली की आंख मिचौली, ग्रामीण परेशान

न्यूजघाट टीम। कुल्लू
बंजार उपमंडल के तहत आने वाली थाटिवीड़ तथा गोपालपुर पंचायत के लगभग 60 गावं के लोग पिछले 2 माह से बिजली की आंख मिचोली से परेशान है, जिसकी वजह से लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है वहीं बिजली की सप्लाई वाधित रहने से गोपालपुर पंचायत को पेयजल आपुर्ती करने वाली एक मात्र उठाउ पेय जल योजना भी प्रभावित हो रही है, जिसकी वजह से गोपालपुर पंचायत के वशिंदो को बिजली की समस्या के साथ साथ पिने के पानी की भारी किल्लत का सामना करना पड़ रहा है।

     शेष वासुकी क्रांति कारी युवक मंडल के प्रधान खेमचंद मेहता, सचिव संजय वर्मा, उप प्रधान डोला सिंह वर्मा, बुध राम वर्मा, नीटु वर्मा,युवक मंडल सदस्या राम लाल, संजय सिंह, डुर सिंह, रिंकु वर्मा एवं के.सी.मेहता त्रिमुर्ती युवक मंडल के प्रधान गोविन्द सिंह, उपप्रधान दिवान चंद, तथा सचिव झावे राम ने जानकारी देते हुए बताया कि पिछले 2 माह से थाटिवीड़ तथा गोपालपुर पंचायत में बिजली की भारी परेशानी हो रही है एक दिन बिजली आती है और दो दिन बंद रहती है कभी वोल्टेज इतनी कम होती है कुछ भी दिखाई नहीं देता जिसकी वजह से दो पंचायतों के लगभग 60 गांव को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। साथ ही उन्होने कहा कि जब बिजली नहीं होती है या फिर वोल्टेज कम होती है तो गोपालपुर पंचायत को पेय जल आपुर्ति करने वाली एक मात्र उठाउ पेय जल योजना भी प्रभावित हो जाती है जिसकी बजह से लोगों को पिने का पानी भी नसीब नहीं हो पाता । वहीं दोनों युवक मंडल के सदस्यों ने कहा कि विजली विभाग की लापरवाही के चलते यह सम्सया आ रही है। साथ ही उन्होने ने विजली विभाग पर आरोप लगाते हुए कहा कि जब लोग विभाग के पास शिकायत करते हैं तो विभाग के कर्मचारी बिजली आपुर्ती बहाल करने के बजाए लोगों को ही डांटने लगते हैं।

     उन्होने कहा कि स्थानिय लाईनमेंन को जब विजली बहाल करने के लिए कहा जाता है तो वह कहते है कि हम तो छुटटी पर है और जब बंजार कार्यलय को इसकी सुचना दी जाती है तो वह कहते है कि लाईनमैंन से ही बात करो की विजली ठीक करें । ऐसे में स्थानिय लोग जाए भी तो कहां जाए । स्थानिय युवक मंडल ने विभाग तथा प्रशासन से अपिल करते हुए कहा कि यदि समय रहते इन दो पंचायतों के लिए बिजली की सुचारू व्यवस्था नहीं कि गई तो घाटी के लोगों को मजबुरन सड़कों पर उतरना पडे़गा और विभाग के खिलाफ आन्दोलन का रास्ता अपनाना पड़ेगा ।

Related posts

Comments are closed.