output_lYKRAR.gif

सनसनी : दराट से बुजुर्ग की दिनदहाड़े बेरहमी से हत्या, बीच बचाव करने आई पत्नी का भी काटा हाथ

अंजना शुक्ला। बिलासपुर
घुमारवीं उपमंडल मुख्यालय से लगभग 15 किलोमीटर दूर गांव कपाहड़ा में दिन दहाड़े एक युवक ने सेवानिवृत अध्यापक पर तेजधर हथियार से हमला कर दिया। इसके चलते उसकी मौके पर ही मौत हो गई। जबकि उसकी पत्नी गंभीर रूप से घायल हो गई। प्राप्त जानकारी के अनुसार गांव राहियां जिला बिलासपुर के रहने वाले मनोज कुमार उर्फ मनु की माता सेवानिवृत अध्यापक लेखराम पुत्र इंद्रराम गांव कापहड़ा से इलाज करवा रही थी। ऐसा बताया जाता है कि उसने अपने पुत्र जोकि नशा करता था के इलाज के लिए भी उनसे आग्रह किया, जिसे उन्होंने ठुकरा दिया था। इसी बात से नाराज मनोज कुमार आज सुबह अपने घर से दरात लेकर कापहड़ा के लिए निकला था।

output_cvUt6r.gif

      कापहड़ा स्कूल में आज कोई कार्यक्रम था, जिसमें भारी संख्या में लोग मौजूद थे। लेख राम भी उस कार्यक्रम में मौजूद थे। लगभग साढ़े 11 बजे वो कार्यक्रम से अपने घर के लिए चले जो स्कूल के साथ ही पड़ता है। उसके पीछे मनोज कुमार भी चला गया। जैसे ही मास्टर जी अपने घर के आंगन में पहुंचे मनोज कुमार ने अपने बैग में छुपाए दरात से उन पर हमला कर दिया। हमला इतना अचानक हुआ कि मास्टर जी को संभलने का मौका ही नहीं मिला। दरात के वार से उनकी लगभग 70 प्रतिशत गर्दन कट गई थी। उसके पश्चात भी उसने कई वार किए, जिससे पूरा आंगन खून से भर गया। आवाज सुनकर उनको बचाने आई, उनकी पत्नी फुला देवी पर भी उसने दरात से हमला कर दिया, जिससे उनका एक हाथ कट कर अलग हो गया। जबकि चेहरे व सिर पर भी घाव आए है। उन्हें तुरंत गंभीर हालत में सामुदायिक अस्पताल घुमारवीं ले जाया गया, जहां से बिलासपुर और फिर उन्हें पीजीआई भेज दिया गया है, जहां उनकी हालत गंभीर बताई गई है। उनके हाथ को भी अलग से बर्फ में डालकर भेजा गया है। उस समय वर्षा हो रही थी, जिससे चीखने की आवाज लोगों को सुनाई नहीं दी।

     लेख राम को मारने के बाद वो दरात लहराता हुआ स्कूल के प्रांगण में पहुंच गया। पंचायत उप प्रधान विनय कुमार ने बताया कि उन्होंने तुरत सारे गांव के लोगों को सूचित किया। तब लोग उसके पीछे पकड़ने के लिए दौड़ पड़े। उसे पकड़ने के लिए गांव वालों को काफी भाग दौड़ करनी पड़ी। अंत में उसे घटनास्थल से तीन किलोमीटर दूर गांव घगडानी से रामप्रकाश पटियाल व सुनील कुमार ने पकड़ने में कामयाबी हासिल कर ली। उसको पुलिस के हवाले कर दिया गया। लोगों के गुस्से को देखते हुए उसे तुरंत एक प्राइवेट गाड़ी में घुमारवीं पुलिस स्टेशन ले जाया गया। मनोज कुमार उर्फ मनु के पिता एचआरटीसी में चालक हैं।

vishal-garments

     मृतक के छोटे बेटे की पहले ही मौत हो गई है। जबकि बड़ा बेटा घुमारवीं में बिजली के सामान की दुकान करता है। इस घटना से पूरे इलाके में शोक की लहर फैल गई है। घटना स्थल पर बिलासपुर के पुलिस अधीक्षक, सहायक पुलिस अधीक्षक व एसएचओ भी मौजूद थे। बाद दोपहर दो बजे मृतक के शव को पोस्टमार्ट्म के लिए घुमारवीं लाया गया, जिसके पश्चात शव परिजनों को सौंप दिया गया है। कत्ल के पीछे विशेष क्या कारण है, इसका खुलासा तो पुलिस की छानबीन से ही हो सकेगा।

Facebook Comments

Related posts