शिलाई : यहां रोजाना जान जोखिम में डालकर बच्चे पहुंच रहे स्कूल, जानिये वजह

न्यूजघाट टीम। पांवटा साहिब
दुर्गम क्षेत्र शिलाई के तहत सतौन-भटरोग सड़क मार्ग आजादी के 70 साल बीत जाने के बाद भी पूरा नहीं हो पाया है। इसके चलते रोजाना दर्जनों छात्रों को अपनी जान को जोखिम में डाल कर शिक्षा ग्रहण करने के लिए 2 किमी दूर सतौन आना पड़ रहा है। जानकारी के मुताबिक लोक निर्माण विभाग ने करीब दो दशक पहले इस सड़क मार्ग का निर्माण कार्य किया था। इस पर एक बार परिवहन निगम की बस भी चल चुकी है। लेकिन इसके बाद विभाग ने दोबारा इसकी कोई सुध नहीं ली। वर्तमान में सड़क की हालत इतनी जर्जर हो चुकी है कि इस सड़क मार्ग पर पैदल चलना भी खतरे से खली नहीं है। इस मार्ग पर रोजाना लेंडसलाइड के चलते पहाड़ी से पत्थर गिरते रहते है। इसके चलते स्कूली छात्रों को साथ बह रही गिरी नदी को तैर कर पार करना पड़ता है, जो खतरे से खाली नहीं है। ग्रामीणों का कहना है कि अभी बरसात का मौसम आना है, उस समय परेशानी और बढ़ जाती है। बरसात के मौसम में एक और उफनती गिरी नदी, दूसरी और ऊपर पहाड़ी से पत्थरों के आने का खतरा। थोड़ी सी चुक हो जाए, तो जान से भी हाथ धोना पड़ सकता है।

     जानकारी के मुताबिक सतौन से पुरुवाला के तक 6 किमी तक का सड़क मार्ग है। इसमें से चार किमी तक का पुरुवाला से सतौन तक का कार्य चला हुआ है। लेकिन सतौन से भटरोग तक का 2 किमी तक का कार्य नहीं हो पा रहा है। ग्रामीण सुनील चैहान, ओम प्रकाश, प्रताप चैहान, नेत्रा सिंह आदि ने बताया कि विभाग हमारी कोई सुध नहीं ले रहा है। उनका कहना है कि कभी इस मार्ग पर परिवहन विभाग की बस चलती थी। लेकिन आज पैदल चलना भी मुश्किल है। ग्रामीणों ने कई बार सड़क मार्ग का मुद्दा हर्ष वर्धन सहित शिलाई के विधायक बलदेव तोमर को भी बताया, लेकिन अभी तक राजनेताओं ने इसकी कोई सुध नहीं ली है। ग्रामीणों ने दोनों राजनैतिक पार्टियों को इसका जिम्मेदार ठहराया है तथा आगामी विधान सभा चुनाव में इसका बहिष्कार करने की चेतावनी दी है।

क्या कहते है राजनेता
रोजगार सृजन बोर्ड के चेयरमैन हर्ष वर्धन ने बताया कि इस बारे में वह खुद विभाग के अधिकारियों से मिल कर इस रोड़ को जल्द शुरू करने को कहेंगे। उधर इस संबध में शिलाई के वर्तमान विधायक बलदेव सिंह तोमर ने बताया कि इस रोड़ को प्राथमिकता के साथ विधायक निधि में डाला गया है और इसकी डीपीआर भी तैयार करवा दी गई है। लेकिन विभाग के अधिकारी इसे गंभीरता से नहीं ले रहे है।

सड़क को नाबार्ड में डाला गया है: उप्रेती
उधर इस संबध में लोक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियंता पीके उप्रेती ने बताया कि इस सड़क मार्ग की डीपीआर तैयार कर ली है, जिसे नाबार्ड में डाला गया है। जल्द ही सड़क मार्ग का कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

Related posts