सोलन : हत्या के बाद शार्प शूटर हैप्पी की भी पैसे को लेकर हत्या, ब्लाइंड मर्डर की गुत्थी सुलझी

न्यूजघाट टीम। सोलन
एक शार्प शूटर यानी सुपारी किलर को उसी के साथियों ने मौत के घाट उतारने की साजिश रची। इस हैरतअंगेज मामले का खुलासा सोलन पुलिस ने किया है। मामला सितंबर माह में कंडाघाट के तहत टिकरी मोड़ पर मिले अज्ञात शव का है। हत्या के इस मामले की गुत्थी पुलिस ने सुलझाने में कामयाबी हासिल की है। कंडाघाट में जिस युवक की हत्या को अंजाम दिया गया था, वह शार्प शूटर थी, जिसकी पहचान हैप्पी के रूप में हुई थी।

       पुलिस जांच के बाद पता चला कि हैप्पी शार्प शूटर था। सुपारी किलर हैप्पी की हत्या के मामले में पुलिस ने दो युवकों को पंजाब के अमृतसर से गिरफतार करने में सफलता पाई है, जिन्हें सोलन लाया जा चुका है। जबकि इस हत्याकांड से जुड़ा मुख्य आरोपी घटना के बाद दुबई रवाना हो गया था, जिसे वापिस देश में लाने की तैयारी में भी पुलिस जुट गई है। कंडाघाट पुलिस ने न केवल अपने क्षेत्र के इस मामले को सुलझाया, परंतु अमृतसर में मई महीने में हुई एक व्यापारी की हत्या के मामले की गुत्थी भी सुलझा दी है। कंडाघाट व पंजाब पुलिस ने मिलकर शार्प शूटर हैप्पी की हत्या की गुत्थी सुलझाने में कामयाबी हासिल की।

      सोलन के एएसपी डा. मनमोहन सिंह ने पत्रकारवार्ता के दौरान बताया कि सितंबर महीने में पुलिस को संदिग्ध अवस्था में एक अज्ञात शव मिला था। शव को देखने के बाद यह मामला हत्या का लगा। मगर शव की शिनाख्त न होने के कारण पुलिस को शुरू में दिक्कतें आई। लेकिन स्थानीय पुलिस की पंजाब गई एक टीम ने अमृतसर में गुमशुदगी की रिपोर्ट के आधार पर इस शव की पहचान हैप्पी के तौर पर की। सोलन पुलिस ने जब इस मामले में पंजाब पुलिस से संपर्क साधा, तो पुलिस को जानकारी मिली कि हैप्पी अपराधिक पृष्ठभूमि से है। नशीले पदार्थों की तस्करी व हत्या के प्रयास जैसे मामलों में संलिप्तरहा है।

      एएसपी ने बताया कि इसके बाद पुलिस ने जांच को आगे बढ़ाते हुए मोबाइल काॅल डिटेल व अन्य जानकारियों के आधार पर पाया कि हैप्पी ने मई महीने में अमृतसर के एक व्यापारी सुरेंद्र की हत्या की थी। हत्या सरेआम बाजार में की गई थी। इस घटना के बाद वह फरार था। पंजाब पुलिस ने सोलन पुलिस को यह जानकारी दी कि व्यापारी सुरेंद्र की हत्या उसी के बेटे मुन्ना ने सुपारी देकर हैप्पी से करवाई थी। इस मामले में दो अन्य युवक सुशील व मनमीत भी शामिल रहे। हत्या के कुछ दिनों बाद पैसे के लेन-देन को लेकर मुन्ना व हैप्पी के बीच अनबन शुरू हो गई। इसी बीच मुन्ना के कहने पर सुशील व मनमीत ने हैप्पी की हत्या की साजिश रची और वह दोनों उसका लेकर कंडाघाट आ गए। यहां पर उन्होंने उसे शराब व अन्य नशीली पदार्थ सहित जहर खिलाया। इसके बाद हत्या कर शव को टिकरी मोड़ पर फैंक दिय गया था। पहचान छिपाने के लिए मुंह को जला दिया गया था।

chauhan

        एएसपी ने बताया कि इस मामले में पुलिस ने अमृतसर से सुशील व मनमीत को गिरफतार किया है। इसके अलावा मुख्य आरोपी मुन्ना, हैप्पी की हत्या के कुछ समय बाद ही दुबई फरार हो गया था। उन्होंने बताया कि इस मामले में एंबेसी से संपर्क साधा जा रहा है। साथ ही उसे वापिस देश लाने के लिए अन्य कार्रवाई भी शुरू कर दी गई है। एएसपी ने ब्लाइंड मर्डर की इस गुत्थी को सुलझाने के लिए डीएसपी विद्या चंद नेगी व कंडाघाट पुलिस के एसएचओ कमल शर्मा सहित उनकी टीम को बधाई दी है।

negi
Facebook Comments

Related posts