सिरमौर प्रशासन-त्रिलोकपुर मंदिर न्यास प्रबंधन पर राज्यपाल आचार्य देवव्रत हुए नाराज

अंजलि त्यागी। कालाअंब
कालाअंब औद्योगिक क्षेत्र के प्रवास पर पहुंचे राज्यपाल आचार्य देवव्रत से आज  नाहन के भाजपा विधायक डा. राजीव बिंदल ने मुलाकात की। इस दौरान विधायक के साथ अन्य भाजपा नेता व कालाअंब सहित आसपास क्षेत्र के ग्रामीण भी मौजूद रहे।

      राज्यपाल आचार्य देवव्रत से मुलाकात के दौरान विधायक बिंदल ने उनका यहां पधारने पर स्वागत किया। साथ ही कालाअंब व इसके साथ लगती पंचायतों के अलावा त्रिलोकपुर मंदिर न्यास से जुड़े मुद्दों को उठाया। विधायक बिंदल द्वारा
उठाए गए मुद्दों पर राज्यपाल आचार्य देवव्रत सिरमौर प्रशासन सहित त्रिलोकपुर मंदिर न्यास प्रबंधन पर खासे नाराज हुए। साथ ही इस दिशा में उचित कदम उठाने के सख्त आदेश भी दिए।

बिंदल साहब द्वारा उठाए गए मुद्दे
1. राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला त्रिलोकपुर का नाम माता बालासुंदरी के नाम पर रखा जाना उचित होगा ।

2. त्रिलोकपुर में एक पीएचसी खोली जानी चाहिए, जिसका लाभ इलाका वाdevvarthसियों व यात्रियों को मिल सकेगा ।

3. माता बालासुंदरी ट्रस्ट में लगने वाले कर्मचारी-अधिकारियों में सर्वाधिक आस-पास के इलाके से ही लगने चाहिए, ताकि स्थानीय लोगों को रोजगार मिल सके ।

5. लाखों तीर्थ यात्रियों के आने से इलाका वासियों के जीवन पर अनेक प्रकार का विपरीत प्रभाव पड़ता है इसलिए:-

-इलाके की पूर्ण स्वच्छता व्यवस्था ट्रस्ट की जिम्मेदारी होनी चाहिए। ज्ञातव्य रहे कि सभी आने वाले यात्री शौच इत्यादि के लिए आसपास के नालों एवं खेतों का उपयोग करते है और इसके बूरे परिणाम स्थानीय जनता को भुगतना पड़ते है ।

-कालाअंब से त्रिलोकपुर के मध्य कम से कम पांच स्थानों पर जन सुविधाऐं (सार्वजनिक शौचालय) होने चाहिए।

-पूरे मार्ग पर स्ट्रीट लाईटों का प्रबंध होना चाहिए।

-त्रिलोकपुर पंचायत के समस्त रास्तों को पक्का किया जाना चाहिए व सभी गांवों में स्ट्रीट लाईटें लगाई जानी चाहिए व छोटे-बड़े खड्डों पर पुल लगाऐं जाने चाहिए।

negi
chauhan
Facebook Comments

Related posts