सावधान : चोखी कमाई के चक्कर में बड़े पैमाने पर मिलावटी दूध हो रहा तैयार !

न्यूजघाट टीम। ऊना
जो दूध आप सेहत बनाने के लिए प्रयोग कर रहें हैं, क्या वह शुद्धता की कसौटी पर खरा भी है या नहीं इसकी कोई गारंटी नहीं है। जी हां उपमंडल अंब में त्योहारी सीजन में इस्तेमाल किए जा रहें दूध की गुणवत्ता कैसी है, यह जांचने के लिए अभी तक दूध के सेंपल ही नहीं लिए जा सके हैं। इसके चलते दूध की गुणवता पर भी सवाल उठ रहा है।

negi

      प्रदेश में एक तरफ पशुधन बड़ी तेजी से कम हो रहा है। वहीं दूसरी और दूध व दूध से बनने वाले उत्पादों की मांग बढ़ रही है। ऐसे में दूध की गुणवता पर सवाल उठ रहें हैं। गगरेट, अंब, चिंतपूर्णी, दौलतपुर, मुबारिकपुर में रोजाना हजारों लीटर दूध खुले व पैकेट में बेचा जा रहा है। त्योहार के सीजन में तो दूध की मांग और बढ़ गई है। वहीं भारी तादाद में बाहरी राज्यों से भी दूध इस क्षेत्र में पहुंच रहा है।

      सबसे अहम बात यह है कि यह दूध बिना किसी जांच के ही बाजार में बेचा जा रहा है। इसके चलते मिलावट खोर खूब चांदी कूट रहें हैं। वहीं खाद्य सुरक्षा विभाग इस त्योहारी सीजन में भी दूध की गुणवता की जांच नहीं कर पाया है। इससे मिलावटी दूध बच्चों व बुजुर्गो से लेकर आम लोगों कि सेहत से खिलवाड़ कर रहा है।

     सूत्रों कि माने तो ज्यादा दूध की मांग को पूरा करने के लिए कुछ लोग पशुओं से ज्यादा दूध निकालने के लिए टीकों का प्रयोग कर रहें है। लेकिन इसके लिए अकेले फूड सेफ्टी अफसर को ही जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता, बल्कि प्रदेश सरकार को भी जनता की सेहत की कोई फिक्र नहीं है। यही वजह है कि पिछले लंबे अरसे से जिला ऊना में फूड सेफ्टी अफसर का पद रिक्त चल रहा है और सोलन के फूड सेफ्टी अफसर के पास सिरमौर जिले के अलावा ऊना जिले का अतिरिक्त कार्यभार है। ऐसे में वह जिला ऊना को पर्याप्त समय ही नहीं दे पा रहे हैं।

chauhan

     सूत्रों की मानें तो चोखी कमाई के चक्कर में जिले में बड़े पैमाने पर मिलावटी दूध तैयार हो रहा हैं, जोकि आम आदमी की सेहत पर भारी पड़ सकता हैं, लेकिन त्योहार के सीजन में भी खाद्य वस्तुओं की गुणवत्ता न परखना अपने आप में एक सवाल है।

क्या कहते है फूड सेफ्टी अफसर ?
फूड सेफ्टी अफसर सतीश ठाकुर का कहना है कि वह जिले के दौरे पर आ चुके हैं। उन्होंने केवल ऊना बाजार में ही एक गाड़ी को रूकवा कर खुले दूध के सैंपल लिए हैं। पर दो जिलों का कार्यभार होने के चलते पूरे ऊना जिले का दौरा नही कर पाएं।

Facebook Comments
vishal-garments

Related posts