युवा भारतीय शास्त्रीय संगीत की परंपरा को बढ़ाए आगे, बोली पद्श्री सुभा मुद्गल

न्यूजघाट टीम। शिमला
शास्त्रीय संगीत की स्वर साधिका पद्मश्री सुभा मुद्गल का मानना है कि युवा भारतीय शास्त्रीय संगीत की परंपरा को आगे बढ़ाए। इसके लिए समाज और परिवार को ही युवा को प्रेरित करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि पर्यटन के तौर पर वे शिमला आ चुकी है। लेकिन बतौर कलाकार ये पहला मौका है।

chauhan

     ऐतिहासिक गेयटी थियेटर में प्रस्तुती देने के लिए बेहद उत्साहित देखी मुद्गल ने शास्त्री संगीत के प्रोत्साहन देेने के लिए प्रदेश सरकार की सराहना की। उन्होंने कहा कि भारतीय कला में अगिनत विविधता है। उनका सदैव प्रयास रहा है कि वे ईमानदारी से इन विधाओं को सीखे और शास्त्रीय, पॉप या किसी भी अन्य संगीत के माध्यम से दर्शको को प्रसन्न करें।

negi
Facebook Comments
vishal-garments

Related posts