बेटियों को बचाने की एक ओर पहल, CM वीरभद्र ने किया ‘‘मुस्कान’’ योजना का शुभारंभ

न्यूजघाट टीम। शिमला
मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने आज यहां सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग की पहल कन्या बचाओ के अंतर्गत प्रदेश के सात जिलों में कन्या भू्रण हत्या रोकने और लिंग अनुपात में सुधार के लिए ‘‘मुस्कान’’ योजना का शुभारंभ किया। यह योजना चंबा, किन्नौर, कुल्लू, लाहौल-स्पीति, शिमला, सिरमौर व सोलन के लिए आरंभ की गई है।

      मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर नवजात कन्याओं की माताओं को सम्मानित किया और उन्हें उपहार भी वितरित किए। वीरभद्र सिंह ने कहा कि लिंग अनुपात में सुधार समय की मांग है। इस संवेदनशील मामले को लेकर समाज में जागरूकता की आवश्यकता है, ताकि लोग लड़कियों के महत्व को समझें और कन्याओं की जन्म दर में सुधार हो सके।

chauhan

    निदेशक सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग मानसी सहाय ने इस अवसर पर कहा कि सरकार द्वारा लिंग अनुपात में सुधार लाने के लिए आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के माध्यय से राज्य में सघन अभियान आरंभ किया है। सभी जिलों में गर्भावस्था के 10 सप्ताह में पंजीकरण करवाना अनिवार्य बनाया गया है। आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को यह सुनिश्चित बनाने के निर्देश दिए गए हैं कि कि गर्भधारण का पंजीकरण न केवल संबंधित केंद्रों बल्कि संबंधित गांव के स्वास्थ्य उप केंद्रों में भी करवाया जाए।

negi

     उन्होंने कहा कि कम लिंग अनुपात वाली ग्राम पंचायतों को चिन्हित कर नव विवाहित जोड़ों को परामर्श के माध्यम से जागरूक किया जाएगा। इसके अतिरिक्त गुड्डा-गुड्डी सूचना पट्टिकाओं के माध्यम से नवजात कन्याओं और जिले में लड़कियों की कुल संख्या को प्रदर्शित किया जाएगा।

     सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डॉ. कर्नल धनी राम शांडिल, मुख्य सचिव वीसी फारका, मुख्यमंत्री के प्रधान सलाहकार टीजी नेगी, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग की सचिव अनुराधा ठाकुर, उपायुक्त शिमला रोहन ठाकुर और अन्य अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

Facebook Comments

Related posts