डा. भारती आत्महत्या मामले में नया मोड़, 5 दिन बाद डाक के जरिये मिला सुसाइट नोट

न्यूजघाट टीम। धर्मशाला
पंचरुखी चिकित्सालय में 16 अक्टूबर को डॉ. विमल भारती द्वारा की गई आत्महत्या के मामले में पालमपुर उपमंडल और पंचरुखी पुलिस पर कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगा है। यह आरोप डॉ. विमल भारती के पिता किशोर चंद और अन्य परिजनों सहित ग्रामीणों ने लगाते हुए, इस बारे में एसपी कांगड़ा से मिलकर न्याय की गुहार लगाई है।

      किशोर चंद का आरोप है कि उनकी बहू रूचि और उसके माता-पिता ने डॉ. विमल भारती को प्रताड़ित करते हुए आत्महत्या के लिए उकसाया है। किशोर चंद का कहना है कि डॉ. भारती का सुसाइड नोट घटना के 5 दिन बाद उन्हें डाक द्वारा मिला, जिसे उन्होंने पंचरुखी पुलिस को सौंप दिया। इस सुसाइड नोट में डॉ. भारती ने अपनी मौत के लिए अपनी पत्नी रूचि और उसके मायके वालों को जिम्मेदार ठहराया था।

chauhan

     किशोर चंद का आरोप है कि पुलिस ने घटना के इतने दिन के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की है और उनके बेटे को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोपी खुलेआम घूम रहे हैं। किशोर चंद ने इस मामले में राजनीतिक दवाब के चलते पुलिस पर कार्रवाई को लटकाने का आरोप लगाया है। उनका आरोप है कि प्रदेश सरकार में ज्वाली विधानसभा क्षेत्र से ताल्लुक रखने वाले नेताओं की इस मामले में दखलंदाजी के चलते पुलिस इस मामले में ढील बरत रही है और केस को कमजोर कर रही है। उन्होंने एसपी से गुहार लगाई है कि इस मामले की निष्पक्ष जांच करते हुए जल्द आरोपियों को गिरफ्तार किया जाए।

      इस बारे में एसपी कांगड़ा संजीव गांधी का कहना है कि पुलिस इस मामले में निष्पक्ष कार्रवाई कर रही है। इस मामले में तथ्य एकत्रित किए जा रहे हैं और उसके बाद आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। एसपी ने डॉ. भारती के पिता और अन्य ग्रामीणों को कानून के अनुरूप कार्रवाई का आश्वासन दिया है। उन्होंने कहा कि इस मामले में आगामी दो तीन दिन में पुलिस किसी नतीजे पर पहुंच जाएगी। एसपी के आश्वासन के बाद डॉ. भारती के परिजन भी संतुष्ट हैं।

negi
Facebook Comments
vishal-garments

Related posts