कांग्रेस सरकार पर फिर लगा खन्न माफिया को श्रेय देने का आरोप

न्यूजघाट टीम। रामपुर बुशहर
प्रदेश कांग्रेस सरकार के ऊपर एक बार फिर खनन माफिया को श्रेय देने का आरोप लग गया है। सीएम के गृह क्षेत्र में एसडीएम द्वारा खनन माफिया पर कार्रवाई करने के बाद तबादले को लेकर काफी चर्चाएं चल रही हैं। खनन माफिया को आश्रय देने पर कांग्रेस सरकार घिर गई है।

    रामपुर में अधिक खनन होने पर एसडीएम को स्थानीय लोगों ने अवगत करवाया, तो एसडीएम ने अपनी कर्रवाई तेज कर दी। तभी उन्होंने डीसी शिमला व एसपी शिमला को भी अवगत करवाया था। मगर आरोप यह लग रहा है कि खनन करने वाले राजनीतिक पहुंच वाले लोग हैं।

      उद्यान विभाग ने भी लिखित में सभी विभागों को सूचित कर दिया था कि दत्नगर में स्थित उनकी भूमि पर अवैध रूप से रात को खनन हो रहा है। जब भी उद्यान विभाग कर्मचारी सूचना देते थे कि खनन हो रहा है।

   इस बारे में पुलिस को फोन किया जाता था, तो उस समय तुरंत खन्न माफिया मौके से फरार हो जाते। इससे पुलिस प्रणाली पर भी संदेह के बादल मंडरा रहे हैं। खनन माफिया ने करोड़ों का रेत बेच लिया है।

negi

   उसके बाद जब एसडीएम ने अभियान को तेज चलाया इस बीच पुलिस अधिकारियों ने भी खन्न में लगे लोगों के खिलाफ अभियान चलाने के बजाए पुलिस मुहैया करवाने से हाथ खड़े कर दिए। इसी बीच खनन माफिया व कुछ राजनीतिक लोग एसडीएम को जल्द स्थानांतरित करने के जुगाड़ में लग गए।

   दिपावली से ठिक पहले अभियान सफल होने से खनन माफिया व लवी मेले में फिकसींग के आरोपों से घिरे लोग काफी खुश हैं। ऐसे में भाजपा द्वारा बार-बार आरोपों को भी इससे बल मिल गया है। क्योंकि भाजपा सरकार पर खनन माफिया से सांठ-गांठ का आरोप लगाती है। इस स्थानांतर को लेकर जहां रामपुर भाजपा को मुददा मिल गया है। वहीं क्षेत्र के लोग भी हैरत में हैं कि आखिर ईमानदारी से आम लोगों के हक में काम करने वालों के खिलाफ किस तरह का व्यवहार होता है।

chauhan
Facebook Comments

Related posts