DIWALI-SHOPPING-DHAMAKA.jpg

पांवटा साहिब: 66 वर्षीय बुजुर्ग गुलजार की मौत संदिग्ध नहीं, हत्या! गले पर चोटों के गंभीर निशान

न्यूजघाट टीम। पांवटा साहिब
शहर के देवीनगर में खेतों के समीप मिले 66 वर्षीय बुजुर्ग गुलजार की संदिग्ध मौत के मामले ने रविवार को नया मोड़ ले लिया है। दरअसल मृतक गुलजार के गले व शरीर पर चोटों के गंभीर निशान मिले हैं। लिहाजा आशंका यह जताई जा रही है कि गुलजार की संदिग्ध मौत नहीं, बल्कि उसकी हत्या की गई है। हालांकि मौत के कारणों का सही खुलासा पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही लग सकेगा, लेकिन न्यूजघाट टीम को रविवार को शव की उपलब्ध तस्वीरों से साफ है कि बुजुर्ग के गले पर चोटों के गंभीर निशान हैं। इससे साफ लग रहा है कि बुजुर्ग की मौत सामान्य नहीं है।

      सोमवार को बुजुर्ग का शव पोस्टमार्टम के लिए आईजीएमसी शिमला भेजा जाएगा। शनिवार देर सायः वृद्ध का शव संदिग्ध हालत में प्राप्त होने के पश्चात परिजनों ने हत्या की आशंका जताई थी। मृतक गुलजार सिंह के पुत्र मनजीत सिंह ने बताया कि उसके 66 वर्षीय पिता देवीनगर स्थित अपने घर से निकले थे। वह ईएसआई विभाग में बतौर सुरक्षा कर्मी कार्यरत थे। ईएसआई कार्यालय से आने के बाद उन्होंने देवीनगर की एक दुकान पर चाय पी और किसी को बिना बताए खेतों की और चले गए। जब वे रात आठ बजे तक घर नहीं पंहुचे तो परिजनों को संदेह हुआ और उन्होंने गुरजार सिंह की तलाश शुरू कर दी। लेकिन आधी रात तक ढूंढने पर भी उनका कोई पता नहीं लगा।

     सुबह आठ बजे परिजनों को सूचना मिली कि उनका शव देवीनगर में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के पास पडा है। वह गुलजार सिंह का शव वहां से उठा कर घर ले आए। घर आकर उन्होंने देखा की गुलजार सिंह के शरीर पर चोटों के निशान थे। गले पर रस्सी के निशान मौजूद थे। मामले की नजाकत को देखते हुए उन्होंने तुरंत पुलिस थाने का दरवाजा खटखटाया। सूचना मिलते ही पांवटा पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। शुरूआती जांच में कुछ संदिग्ध के नाम पुलिस के सामने आए है। पुलिस एक और उनसे पूछताछ में जुटी हुई है, वहीं दूसरी ओर मृतक का शव पोस्टमार्टम के लिए आईजीएमसी भेजने का निर्णय लिया है।

     पूछे जाने पर डीएसपी भीष्म ठाकुर ने बताया कि मामले की गंभीरता से जांच की जा रही है। सोमवार को शव को आईजीएमसी शिमला भेजा जाएगा। रिपोर्ट आने के बाद ही मौत के कारणों का सही खुलासा हो पाएगा। उन्होंने कहा कि पुलिस हर पहलू पर जांच कर रही है।

vishal-garments
Facebook Comments

Related posts