देवभूमि में टांकेबाज कंडक्टरों पर रहेगी पैनी नजर, अत्याधुनिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम से लैस होगी HRTC

बसों के प्रवेश और निकासी द्वार पर भी लगेंगे सीसीटीवी कैमरे, करेंगे यात्रियों की गिनती, हिमाचल बनेगा पहला राज्य
न्यूजघाट टीम। हमीरपुर
हिमाचल पथ परिवहन निगम की बसें जल्द ही जल्द ही अत्याधुनिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम से लैस होंगी। टिकट मशीनों की जगह निगम प्रबंधन ऑटोमेटिक टिकट जेनरेट मशीनें शुरू करेगा। ऑटोमेटिक टिकट जेनरेट मशीन कंट्रोल रूम से कनेक्ट होगी। आरएम और डीएम कार्यालयों से भी यात्रियों का स्टेटस देखा जा सकेगा। सभी सवारियों का टिकट न कटने पर ऑटोमेटिक टिकट जेनरेट मशीन कंट्रोल रूम में अलर्ट भेजेगी। इससे संबंधित परिचालक के खिलाफ तत्काल कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। ऑटोमेटिक टिकट जेनरेट मशीन में सीसीटीवी कैमरा होगा।

      कंडक्टरों को मशीनें अलॉट करने से पहले इनका चेहरा मशीन से स्कैन होगा। वहीं बसों के निकासी और प्रवेश द्वार पर भी सीसीटीवी कैमरे स्थापित होंगे। बस और ऑटोमेटिक टिकट जेनरेट मशीन में लगे सीसीटीवी कैमरों का नियंत्रण कंट्रोल रूम से होगा। जैसे ही सवारियां बस में सवार होंगी। प्रवेश और निकासी गेट पर लगे सीसीटीवी कैमरे सवारियों की गिनती कर उनका चेहरा स्कैन करेंगेे। सीसीटीवी कैमरे में स्कैन पूरी सवारियों का टिकट न कटने पर ऑटोमेटिक टिकट जेनरेट मशीन अपने आप कंट्रोल रूम को चेतावनी संदेश भेजेगी। चेतावनी संदेश बताएगा कि कितने यात्रियों का कंडक्टर ने टिकट नहीं काटा है। इतना ही नहीं यात्री ने जिस स्टेशन का टिकट कटवाया होगा, वहां सवारी के न उतरने पर भी कंट्रोल रूम में मैसेज चला जाएगा। ऐसे में कंडक्टर किसी यात्री का आधा अधूरा टिकट भी नहीं काट सकेगा। ऐसे में संदेश मिलते ही निगम प्रबंधन संबंधित परिचालक के खिलाफ कार्रवाई अमल में लाएगा।

टांकेबाज कंडक्टरों पर कसेगा शिकंजा
ऑटोमेटिक टिकट जेनरेट मशीन के चलते टांकेबाज कंडक्टरों पर शिकंजा कसा जाएगा। जो कंडक्टर यात्रियों को आधा अधूरा टिकट काटते है या किराया लेने के बाद टिकट नहीं देते हैं। इससे टांकेबाज कंडक्टरों पर लगाम लगेगी, वहीं निगम प्रबंधन भी घाटे से उभरेगा। कंडक्टर के बार-बार पकड़े जाने पर उसकी सेवाएं भी समाप्त की जा सकती हैं।

vishal-garments

फर्जी पास चलाने वालों पर भी नजर
अधिकतर सरकारी शिक्षण संस्थानों और कार्यालय कर्मचारी बस पास से एचआरटीसी बसों में सफर करते हैं। कई यात्रियों ने यलो या सिल्वर कार्ड भी बनवाए हैं। कंट्रोल रूम में यलो कार्ड, सिल्वर कार्ड और बस पास प्रयोग कर रहे यात्रियों का विवरण फीड होगा। ऑटोमेटिक टिकट जेनरेट में लगा सीसीटीवी कैमरा बस पास या कार्ड को स्कैन करेगा। कार्ड फर्जी होने पर मशीन इसे असेप्ट नहीं करेगी।

हिमाचल बनेगा पहला राज्य
एचआरटीसी की बसों में ऑटोमेटिक टिकट जेनरेट मशीन की सुविधा सफल होती है तो अत्याधुनिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम से लैस बसों में हिमाचल पहला राज्य बन जाएगा। अब तक किसी भी राज्य में ऑटोमेटिक टिकट जेनरेट मशीन की सुविधा उपलब्ध नहीं है।

क्या कहते हैं ट्रांसपोर्ट मंत्री बाली?
इस मामले में परिवहन मंत्री जीएस बाली ने कहा कि ऑटोमेटिक टिकट जेनरेट मशीन सुविधा शुरू करने के लिए सभी अधिकारियों को आदेश दे दिए गए हैं। जल्द ही इस सुविधा को शुरू कर दिया जाएगा। निगम में टांकेबाज कंडक्टरों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा।

Facebook Comments

Related posts