ऊना : एसपी अनुपम शर्मा समेत उनकी टीम कैसे बनी नशा कारोबारियों के लिए खौफ? पढ़े खबर

न्यूजघाट टीम। ऊना
पंजाब की सीमा के साथ सटे ऊना जिला में एसपी ऊना अनुपम शर्मा व उनकी टीम नशेड़ियों के साथ-साथ नशा कारोबारियों के लिए इन दिनों खौफ बनकर उभरी है। एसपी के शानदार नेतृत्व में उनकी टीम ने मानों नशा कारोबारियों की कमर ही तोड़ कर रख दी है। यही कारण है कि हरेक शख्स पुलिस की इस मुहिम की सराहना कर रहा है। महज 23 दिनों में ही विभिन्न तरह के नशे की भारी खेम के साथ पुलिस ने 23 व्यक्तियों को सलाखों के पीछे पहुंचाने में सफलता हासिल की है।

      दरअसल बीते 20 अगस्त को एडीजीपी संजय कुंडू ने पुलिस को नशा कारोबारियों के खिलाफ अभियान चलाने के निर्देश दिए थे। एडीजीपी ने यह भी स्पष्ट आदेश जारी किए थे कि नशे के खिलाफ अभियान तेज किया जाए। साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाए कि नशे के कारोबार में शामिल लोग को यह संदेश दिया जाए कि या तो वह नशा या इसका कारोबार छोड़ दें या फिर जिला छोड़ दें। यही नहीं उद्योग मंत्री मुकेश अग्रिहोत्री ने भी पुलिस को साफ निर्देश दिए थे कि नशे के कारोबार में संलिप्त पाए जाने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए। इसके बाद पुलिस ने नशे के खिलाफ ऐसी मुहिम छेड़ी कि इस अवैध कारोबार से जुड़े लोगों की नींद पुलिस ने उड़ाकर रख दी।

नशे के खिलाफ अब तक की सबसे बड़ी मुहिम
ऊना जिला में नशे के खिलाफ छेड़ी गई मुहिम अब तक की सबसे बड़ी मुहिम मानी जा रही है। इस मुहिम को मिल रही सफलता से नशेड़ियों व नशे का अवैध कारोबार करने वालों में हडकंप मच गया है। पिछले कुछ दिनों से इस मुहिम को अंजाम देने में जिला पुलिस के सभी अधिकारी दिन-रात जुटे हुए हैं। प्रदेश सरकार की नशाखोरी के प्रति जीरो टालरैंस नीति और कड़े रवैये को देखते हुए नशे का कारोबार करने वालों की बड़े पैमाने पर जिला में धरपकड़ भी शुरू हो गई है।

अब तक 23 को किया गिरफतार
20 अगस्त को एडीपीजी के आदेशों के बाद चलाए गए इस अभियान के अंतर्गत जिला भर में नशाीले पद्धार्थों सहित 23 व्यक्ति काबू किए गए हैं, जिनमें अधिकतर ऊना जिला के बाहर से हैं। इससे साबित होता है कि बाहर के लोग यहां नशा का कारोबार फैलाने का प्रयास कर रहे हैं। पिछले दिनों चिंतपूर्णी, अंब व ऊना के रक्कड़ से भी नशे के सौदागर पुलिस द्वारा दबोचे गए हैं।

vishal-garments

नशे की इतनी खेप के साथ दबोचे ये आरोपी
जिला के समस्त पर्यवेक्षण अधिकारियों की निगरानी में पुलिस बल द्वारा नशे का अवैध कारोबार करने वालों के ठिकानों पर छापेमारी करके 12 अगस्त तक 23 व्यक्ति दबोचे गए हैं। इनमें कुल्लू के दमचीन गांव के निवासी चंद्रवीर से 703 ग्राम चरस, कुठारखुर्द के होशियार सिंह से नशीली दवाईयां, बाथड़ी के विशाल कुमार से 1098 ग्राम स्मैक, कुठेड़ा खैरला के अरविंद राणा से 60ः0120 ग्राम चरस व नशीली दवाएं, नागौर राजस्थान के सुरेश कुमार से 71 ग्राम चरस, होशियारपुर के शेर सिंह से 710 ग्राम चरस, हमीरपुर की भोंरज तहसील के डेरा निवासी राजेंद्र  से 96 ग्राम चरस, गोंदपुर जयचंद के अमनदीप से 2.50 ग्राम हेरोईन, गगरेट पुलिस स्टेशन के तहत अंबोटा निवासी राजेश कुमार से 70 ग्राम चरस, मैडी के रविंद्र कुमार से 1 किलो 770 ग्राम चूरा पोस्त, पटना बिहार के रामपदरथ से डेढ़ किलो गांजा, पंजाब के फरीदकोट के पवित्र सिंह से 170 ग्राम चूरा पोस्त, नवांशहर के कमलजीत सिंह से 925 ग्राम चूरा पोस्त, हमीरपुर जिला के टौणी देवी निवासी वरूण शर्मा से 9 ग्राम चरस, आनंदपुर साहिब के बलवीर कुमार से 650 ग्राम हेरोईन, रामनगर गगरेट के निवासी सतपाल सिंह से 4.030 ग्राम हेरोईन, नंगल के सौरव कुमार से 500 ग्राम चूरा पोस्त, ऊना के वार्ड नंबर 6 के सागर पुरी से 9.039 ग्राम हेरोईन, पंजाब के मोगा निवासी इंद्रजीत व रोपड़ के घनोली निवासी मनदीप सिंह से 6.90 ग्राम हेरोईन, अंब उपमंडल के बेहड़ जसवां निवासी अनिल कुमार, अठवां निवासी राहुल जसवाल व कुठैड़ा खैरला के अनवर अली से 9.045 ग्राम हेरोईन व मंडी जिला के कटोला निवासी गुडडू के कब्जे से 1 किलो 700 ग्राम चरस पकड़ी जा चुकी है।

क्या कहते हैं एसपी अनुपम शर्मा?
एसपी अनुपम शर्मा ने कहा कि जिला ऊना में नशेड़ियों व नशे के सप्लायरों पर शिकंजा कसने के लिए विशेष अभियान चलाया गया है। नशे का अवैध कारोबार करने वालों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करने के लिए प्रत्येक उपमंडल स्तर पर कार्य योजना तैयार की गई है, जिसके तहत नशे के अवैध कारोबारियों की पहचान स्थापित करके उनकी प्रोफाईल तैयार की जा रही है। इस अभियान के तहत जिला के तमाम नशा निवारण केंद्रो का भी सर्वेक्षण किया जा रहा है। उनमें उपचाराधीन नशेड़ियों की भी प्रोफाईल तैयार की जा रही है। उन्होंने कहा कि किसी भी सूरत में जिले में नशे के अवैध कारोबार को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

Facebook Comments

Related posts