- Advertisement -

हिमालयन ग्रुप आॅफ इस्टीटयुशन्स के विद्यार्थियों ने किया गुरूओं को नमन

7

अंजलि त्यागी

नाहन। हिमालयन ग्रुप आॅफ प्रोफेशनल इस्टीटयूशन्स के सभी कालेजों के विद्यार्थियों द्वारा टीचर्स डे के अवसर पर एक कार्यक्रम गुरू वंदन का आयोजन किया गया।

जिसमें मुख्य रूप से हिमालयन ग्रुप के डीन एकेडमिक डाक्टर एस0के0 गर्ग, एवं डाक्टर बिन्दु शर्मा, एडवाईजर डाक्टर राकेश शर्मा, चीफ एक्जीक्यूटिव आफिसर एस0के0 गुप्ता उपस्थित हुए और उपस्थित शिक्षकों को शिक्षक दिवस की शुभकामनायें दीे। कार्यक्रम की शुरूवात पूर्व राष्ट्पति स्वर्गीय डाक्टर सर्वपल्ली राधाकृण्णन को याद कर की गयी तत्पश्चात कैक काटा गया।

विद्यार्थियों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये जिनकी उपस्थित अतिथियों ने सराहना की। डाक्टर गर्ग ने उपस्थित शिक्षकों को बधाई देते हुए कहा कि गुरू शब्द सुनते हुए हमारे मस्तिक में छवि बनती है उन शिक्षकों की जिनसे हमने स्कूल या कालेज में शिक्षा ग्रहण की। उन्होने कहा कि इनके साथ वे भी गुरू है जिनसे हमें कुछ न कुछ सीख मिलती है फिर चाहे वह नन्हा बच्चा ही क्यों न हो। यदि वह हमें भटकाव से सही राह पर ले जाये तो वह भी हमारा गुरू ही कहलायेगा। वही गुप्ता ने कहा कि गुरू व जीवन की मुर्ति है जो दूसरों को ज्ञान का उजाला बांटकर उनके जीवन को गतिशील, भावना और उच्च विचारों से जुडे कर्म कर जीवन की उचाईयों पर ले जाते है।

डाक्टर बिन्दु ने बधाई देते हुए गुरू व शिष्य के बारे में बताया कि गुरू का अर्थ है अंधरे से प्रकाश में लाना। उन्होने बताया कि जैसे गुरू के बिना शिष्य अधुरा है वैसे ही शिष्य के बिना गुरू भी अधुरा है। डाक्टर राकेश शर्मा ने कहा कि गुरू एक घने वृक्ष की तरह अपने शिष्य को हरतरह से छाया प्रदान करता है चाहे वह एक पिता की भूमिका हो, एक गुरू की या फिर एक पथप्रदर्शक की। गुरू और शिष्य के बीच इस अनूठे बंधन को मजबूत करने के लिए अगर किसी चीज की जरूरत होती है तो वह गुरू के प्रति शिष्य का विश्वास, श्रद्वा और सम्मान।

हिमालयन ग्रुप के चेयरमैन रजनीश बंसल ने अपने एक सदेंश में शिक्षक दिवस पर ग्रुप के सभी शिक्षकों को अपनी शुभकामनायें प्रेषित की और गुरू और शिष्य के अनूठे रिश्ते की बात को एकलव्य और द्रोणाचार्य का जिक्र करते हुए कहा कि गुरू हर प्रकार से ज्ञान का भण्डार होते है और उन्ही की दी गयी शिक्षा के कारण आज हम सभ्य जीवन व्यतीत कर रहे है जिसका श्रेय शिक्षक को जाता है। उन्होने शिक्षक को राष्ट् का निर्माता बताया। उन्होने अपने सदेंश में विद्यार्थियों से आग्रह किया  कि वे अपने गुरू द्वारा बताये रास्ते पर ही चलें।

वही वाईस चेयरमैन विकास बंसल ने भी शिक्षकों को शिक्षक दिवस की बधाई देते हुए कहा कि गुरू एक दीपक की तरह है जो अपनी रोशनी अपने शिष्यों को देता है उन्होने विवेकानन्द का उदाहरण देते हुए बताया कि विवेकानन्द एक ऐसे शिष्य थे जिन्होने अपने गुरू से जीवन जीने का सही तरीका सीखा, गुरू के दिखाये रास्ते पर चलते हुए न जाने कितने लोगों के जीवन में प्रेम, निस्वार्थ सेवा और सत्यता का दीपक चलाया।

कार्यक्रम में डाक्टर एस0के0 गर्ग, डाक्टर बिन्दु शर्मा, डाक्टर राकेश शर्मा एस0के0 गुप्ता, हिमालयन इस्टीटयूट आॅफ फार्मेसी के प्रिसीपल डाक्टर सचिन गोयल, हिमालयन इस्टीटयूट आॅफ नर्सिग की प्रिसीपल अमृता कपूर, सीएससी विभागाध्यक्ष इंजीनियर अनिल लाम्बा, सिविल विभागाध्यक्ष वरूण गोयल, एमबीए विभागाध्यक्ष मुकेश गोयल, एमसीए विभागाध्यक्ष प्रतीक शर्मा, एजुकेशन विभागाध्यक्ष साईना अंसारी के साथ अन्य सभी विभागाध्यक्ष, टीचर्स, टैनिंग एवं प्सलेसमैंट अधिकारी प्रवीन शर्मा एवं जगदीप पन्नु, के अलावा अन्य विद्यार्थीगण उपस्थित थे।

Inside Post In Last

Leave A Reply

Your email address will not be published.