- Advertisement -

स्पेशल हेल्थ सैक्टरी ने किया सिविल अस्पताल का औचक निरीक्षण, दिए कड़े निर्देश

हड्डी रोग विशेषज्ञ द्वारा महंगी दवाएँ लिखने व दुर्व्यवहार पर रिपोर्ट तलब

11

न्यूज़घाट/पांवटा साहिब

पांवटा सिविल अस्पताल में स्पेशल हेल्थ सचिव निपुण जिंदल ने औचक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने डायलिसिस सेंटर को जल्द से जल्द चलाने के निर्देश दिए। वहीं हड्डी रोग विशेषज्ञ द्वारा लिखी जा रही महंगी दवाइयों व दुर्व्यवहार पर उन्होंने रिपोर्ट तलब की ।

गौर हो कि प्रदेश सरकार में स्पेशल हेल्थ सेक्टरी के पद पर तैनात आईएएस निपुण जिंदल मंगलवार को गृह क्षेत्र पांवटा साहिब पहुंचे। यहां पर उन्होंने सिविल अस्पताल के आपातकालीन वार्ड, सीटी स्कैन, x ray room, डायलिसिस सेंटर का निरीक्षण किया। वहीं मिली खामियों को लेकर उन्होंने अस्पताल प्रशासन को कड़े निर्देश दिए।

इस दौरान उन्होंने डायलिसिस सेंटर को जल्द से जल्द शुरू करने को लेकर मौके से ही डायलिसिस सेंटर का कार्य देख रहे हैं अधिकारी से बात की और जल्द से जल्द दो मशीनें व टैक्नीशियन स्टाफ के साथ इसे शुरू करने के निर्देश दिए। वहीं उन्हें newborn baby सेंटर का निरीक्षण किया।

महंगी दवा लिखने पर रिपोर्ट तलब

वहीं हड्डी रोग विशेषज्ञ नवनीत कोहली द्वारा मरीजों को लिखी जा रही बाहर की ब्रांडेड और महंगी दवाओं की ना केवल शिकायत सामने बल्कि उनके द्वारा मरीजों के साथ किया जा रहा दुर्व्यवहार के कई मामले सामने आए भी सामने आए।

इन शिकायतों पर उन्होंने कड़े निर्देश सीएमओ सिरमौर संजय शर्मा को दिए उन्होंने कहा 4 बजे के बाद ओपीडी बिल्कुल बंद हो केवल इमरजेंसी में ही पेशेंट को देखा जाए।

गौर हो के उन्हें शिकायत मिली थी कि हड्डी रोग विशेषज्ञ रात 8 बजे तक ओपीडी में बैठते हैं और मरीजों को महंगी ब्रांडेड दवाएं बाहर की लिखते हैं मजबूरी में मरीजों को यह दवाएं बाहर से खरीदनी पड़ती है।

इस मामले में स्पेशल हेल्थ सेक्टरी ने smo डॉक्टर संजीव सहगल से रिपोर्ट तलब की है। उन्होंने कड़े निर्देश दिए कि सभी डॉक्टर दवाएं सिविल सप्लाई की ही लिखें ताकि लोगों को महंगी दवाई ना खरीदनी पड़े।

क्या बोले निपुण जिंदल

अपने औचक निरीक्षण को लेकर आईएएस वा स्पेशल हेल्थ सेक्टरी हिमाचल प्रदेश निपुण जिंदल ने कहा कि पांवटा सिविल अस्पताल में dialysis centre जल्द से जल्द शुरू करने के निर्देश दिए गए हैं।

वही जो भी अस्पताल में कमी पाई गई उन्हें तुरंत दुरुस्त करने को कहा गया है। महंगी दवाओं व ड्यूटी में कोताही बरतने वाले डॉक्टर्स को बिल्कुल नहीं बख्शा जाएगा उनकी पूरी रिपोर्ट अस्पताल प्रशासन से मांगी गई है अगर ऐसा पाया जाता है तो कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

Inside Post In Last

Leave A Reply

Your email address will not be published.