धार्मिक स्थलों की पवित्रता सभी का सामूहिक उत्तरदायित्व – डाॅ. सैजल

सामाजिक सुरक्षा पैंशन पर इस वर्ष व्यय किए जा रहे 600 करोड़ रुपये

 

hids

न्यूज़घाट टीम। सोलन

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता तथा सहकारिता मंत्री डाॅ. राजीव सैजल ने कहा कि धार्मिक स्थलों की पवित्रता एवं शांति बनाए रखना हम सभी का नैतिक कर्तव्य है। डाॅ. सैजल आज सोलन जिले के कण्डाघाट उपमण्डल के करोल का टिब्बा में आयोजित स्थानीय मेले के अवसर पर उपस्थित लोगों को सम्बोधित कर रहे थे।

डाॅ. सैजल ने कहा कि शांति एवं स्वयं की खोज में मनुष्य विभिन्न धार्मिक स्थलों तक पहुंचते हैं। इन स्थानों पर आकर मनुष्य एकांत एवं मनोहारी वातावरण में जीवन के अनसुलझे रहस्यों एवं प्रश्नों का उत्तर पाना चाहता है। ऐसे रमणीय एवं पवित्र स्थलों को यथावत बनाए रखने में स्थानीय निवासियों, ग्राम पंचायतों एवं यहां आने वाले आगंतुकों का समन्वय एवं सहयोग अपेक्षित है। उन्होंने कहा कि भारत को विश्व में ज्ञान के पर्याय के रूप में जाना जाता है। हमारे धार्मिक स्थल आध्यात्मिक, दार्शनिक एवं व्यवहारिक ज्ञान के मंदिर हैं और इन्हें सुरक्षित रखा जाना चाहिए।

hids

उन्होंने कहा कि इंटरनेट, आधुनिकीकरण तथा आजीविका के लिए हो रही भागदौड़ एवं समय के नितांत अभाव के कारण आज लोक संस्कृति, परम्पराओं एवं रीति-रिवाजों से एक दूरी बनती हुई प्रतीत हो रही है। ऐसी परिस्थितियों में यह आवश्यक है कि विभिन्न माध्यमों से क्षेत्र विशेष की संस्कृति को न केवल संरक्षित रखा जाए अपितु युवा पीढ़ी को इससे परिचित भी करवाया जाए। इस दिशा में प्रदेश में मनाए जाने वाले मेले, त्यौहार, उत्सव एवं महोत्सव सराहनीय भूमिका निभा रहे हैं।

डाॅ. सैजल ने कहा कि युवा पीढ़ी को नशे से दूर रखने की दिशा में प्रयास करने होंगे ताकि आज का युवा कल का परिपक्व एवं ऊर्जावान नागरिक बन सके। उन्होंने करोल पर्वत जैसे विशुद्ध पवित्र स्थानों को नशे की बुराई से दूर रखने का आह्वान भी किया।

hids

सहकारिता मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार करोल पर्वत को धार्मिक दृष्टि से विकसित करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि स्थानीय मंदिर के रास्ते के जीर्णोद्धार के लिए समुचित धनराशि शीघ्र उपलब्ध करवाई जाएगी। उन्होंने क्षेत्र की विभिन्न मांगांे को समयबद्ध सीमा में उपलब्ध करवाने एवं आवश्यक धनराशि उपलब्ध करवाने का आश्वासन भी दिया।

उन्होंने कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार आम आदमी की सरकार है और मुख्यमंत्री का पहला ही निर्णय प्रदेश के वरिष्ठ नागरिकों के लिए विशेष सौगात लेकर आया। प्रदेश सरकार ने अपने प्रथम निर्णय में बिना किसी आय सीमा के वरिष्ठ नागरिकों को प्रदान की जा रही सामाजिक सुरक्षा पैंशन की आयु सीमा को 80 वर्ष से घटाकर 70 वर्ष किया। इससे 1 लाख 30 हजार वरिष्ठ नागरिक लाभान्वित हुए हैं। प्रदेश सरकार इस वर्ष सामाजिक सुरक्षा पैंशन पर 600 करोड़ रुपये खर्च कर रही है।

करोल में आषाढ़ मास के पहले रविवार को प्राचीन समय से ही मेला आयोजित किया जाता है। यह मेला समूचे क्षेत्र की आस्था एवं विश्वास का परिचायक है।

ग्राम पंचायत मही के प्रधान एवं मेला समिति के सचिव नंद किशोर शर्मा ने मेले की विस्तृत जानकारी प्रदान की।

भाजपा मंडल सोलन के अध्यक्ष रविंद्र परिहार, मेला समिति के अध्यक्ष सीता राम वर्मा, भाजपा मंडल सोलन के उपाध्यक्ष धर्मेंद्र ठाकुर, महामंत्री नरेंद्र ठाकुर, ग्राम पंचायत शामती के प्रधान संजीव सूद, उपमंडलाधिकारी कंडाघाट डाॅ. संजीव धीमान, विभिन्न विभागों के अधिकारी, गणमान्य व्यक्ति तथा श्रद्धालु इस अवसर पर उपस्थित थे।


डाॅ. सैजल ने इससे पूर्व धर्मपुर स्थित विश्राम गृह में जनसमस्याएं सुनीं। इस अवसर पर माला, नारायणी, प्राथा, बनासर, दयोठी, भारती इत्यादि के प्रतिनिधिमंडलों ने डाॅ. सैजल के समक्ष विभिन्न मांगे एवं समस्याएं रखीं। लोगों ने क्षेत्र में समुचित बस परिवहन व्यवस्था, सड़क, पेयजल आपूर्ति इत्यादि की मांगे उठाईं।

डाॅ. सैजल ने अधिकारियों को विभिन्न समस्याओं के उचित निपटारे के निर्देश दिए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.