सती बताएं बॉर्डर इलाके के अपमान पर क्यों है चुप, CM की टिप्पणियों पर दें जनता को सफाई

मुकेश को सलाह देने से पहले सीएम को पढ़ाएं मर्यादा का पाठ

आरके शर्मा। ऊना
मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने जिला ऊना सहित बॉर्डर के इलाकों की बोली व संस्कृति को लेकर जिस प्रकार से अपमानित भाषा का प्रयोग किया है। उस पर राज्य भाजपा के अध्यक्ष सतपाल सत्ती के होठों क्यों सिले हुए हैं।

hids

यह बात जिला कांग्रेस के अध्यक्ष वीेरेदं्र धर्माणी, पूर्व जिला अध्यक्ष अविनाश कपिला, पूर्व हरोली ब्लॉक कांग्रेस के अध्यक्ष रंजीत राणा, अशोक ठाकुर, सुमन ठाकुर, सुभद्रा देवी, सुरेखा राणा व वीरेंद्र मनकोटिया ने संयुक्त रुप से जारी बयान में कहीं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ने जिस भाषा का प्रयोग किया है वह निंदनीय है और मुकेश अग्निहोत्री ने साफ किया है कि मुख्यमंत्री ने उसी भाषा में जवाब देने के लिए बाध्य किया है। वरना कांग्रेस की संस्कृति इस प्रकार की भाषा का इस्तेमाल करने की नहीं रही है। उन्होंने कहा कि बेहतर होता कि मुख्यमंत्री की निंदा करते और उन्हें माफी मांगने के लिए कहते। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने बार्डर इलाकों का अपमान किया है मुख्यमंत्री ने सफाई न दी तो आने वाले समय में इस मसले को मान सम्मान की लड़ाई के रूप में लड़ा जाएगा।

उन्होंने कहा कि नेता मुकेश अग्निहोत्री की कोई भी टिप्पणी गलत नहीं की है जो मुख्यमंत्री ने कहा उसी का जवाब उन्हीं की भाषा में दिया है। इसका दर्द मुख्यमंत्री व भाजपा के नेताओं को हो रहा है तो इसका मतलब साफ है कि विपक्ष का इंजेक्शन ठीक लग रहा है। उन्होंने कहा कि विपक्ष का काम सरकार की गलतियों पर सूचित करना है और विपक्ष अपने काम को 5 महीनों में ठीक कर रहा है। अब सरकार को दिया गया समय खत्म है इसलिए पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह व कांग्रेस पार्टी पूरी तरह से फील्ड में है और डंके की चोट पर जवाब दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि भाजपा अध्यक्ष को डराने धमकाने की भाषा का पहले भी नुकसान हो चुका है अब कांग्रेस के नेताओं पर धमकाने वाली भाषा का प्रयोग ना करें। उन्होंने कहा कि जो तीर चलाना है वह भाजपा अध्यक्ष चला सकते हैं।

उन्होंने कहा कि महिलाओं पर टिप्पणी करना भाजपा अध्यक्ष की पहले भी आदत रही है और उनके ही पार्टी के नेता उनकी बातों को आगे रखते हैं। ऐसे में पूरा जोर जिस प्रकार से विधानसभा चुनावों में भाजपा अध्यक्ष ने लगाया उसके बावजूद चुनाव में उन्हें हार मिली है, अब उसे सहन करने की शक्ति अपने अंदर लानी चाहिए और उतावलेपन में नेता विपक्ष पर टिप्पणी करने से परहेज करना चाहिए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी एकजुट है और पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह जिस प्रकार से सरकार व भाजपा पर हमला किया है उससे पूरी भाजपा हिल गई है।

hids

यही कारण है कि मर्यादित भाषा का प्रयोग मुख्यमंत्री व भाजपा के नेता करने पर उतारू हैं। उनकी प्रदेश की संस्कृति व मर्यादा को भाजपा के नेता खराब कर रहे हैं उनकी भाजपा के अध्यक्ष को तकलीफ है तो उन्हें सबसे पहले मुख्यमंत्री जयराम को शब्दों के इस्तेमाल पर सही सलाह देनी चाहिए कि जैसा सरकार का रवैया रहेगा विपक्ष वैसा ही जवाब देगा। उन्होंने मुकेश अग्निहोत्री द्वारा समर्थन किया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.