- Advertisement -

शिमला के आईआईआरडी संस्थान पर करोड़ों रूपये के घोटाले का आरोप

एनएसयूआई ने संस्थान के खिलाफ खोला मोर्चा

न्यूज घाट/शिमला

जिला शिमला के शहनान में स्थित आईआईआरडी की संस्था पर करोड़ों रूपये के घोटाले का आरोप लगे है। शिमला एनएसयूआई ने इस संस्थान पर ये आरोप जड़े है।
एक प्रेस वार्ता के माध्यम से एनएसयूआई के प्रदेश उपाध्यक्ष विनोद हेटा ने बताया कि शिमला के शहनान में स्थित आईआईआरडी संस्थान ने सूबे के ग्रामीण इलाकों के 50 हजार लोगों को नौकरी देने का झांसा देकर उनसे करोड़ों रूपये एंठे है।

उन्होंने आरोप लगाते हुए बताया कि इस संस्थान ने 2017 में विज्ञापन देकर छह हजार लोगों को नौकरियां देने का वायदा किया था। इसमें प्रदेश की 3226 पंचायतों में दो-दो पंचायत फसिलेटर और एक-एक पंचायत सर्विस एसोसिएट को रखा जाने की बात कही गई थी। इसके अलावा जिला व मंडल स्तर पर भी भर्तियां निकाली गईं। इन पदों के लिए संस्था द्वारा 500 रूपये से लेकर 1500 रूपये तक का शुल्क लिया गया।
प्रदेश के लगभग 50 हजार युवाओं ने इन तमाम पदों के लिए आवेदन भी किया था।नौकरी के लिए मांगे गए इन आवेदनों के माध्यम से करीब डेढ़ करोड़ की राशि एंठी गई। उन्होंने कहा कि इस संस्था का छह हजार लोगों को नियुक्ति पत्र देने का दावा किया, लेकिन हकीकत में इस संस्था ने पचास लोग भी नियुक्त नहीं किए हैं।

hids

यही नही प्रदेश भर में करीब 12 हजार लोगों ने इस संस्था के झांसे में आकर सदस्यता करवाई। इस तरह इस संस्था ने सदस्यता अभियान के जरिए एक करोड़ रूपये ठगे। इस तरह संस्था ने गैरकानूनी तरीके से करोड़ों रूपये एकत्रित किए हैं और हिमाचल के बेरोजगार युवाओं व आम जनता के साथ खिलवाड़ किया है ।

उन्होंने बताया कि इस संस्थान का संचालक के खिलाफ धोखाधड़ी के तथ्यों को एकत्रित करके पूरे मामले की शिकायत प्रदेश पुलिस महानिदेशक को दी गई है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!