- Advertisement -

भारत को सिल्वर मेडल दिलाने वाली प्रियंका-रितु का शिलाई पहुंचने पर भव्य स्वागत

सिरमौर कबड्डी एसोसिएशन द्वारा सम्मान समारोह कार्यक्रम का आयोजन किया, हजारों लोग सिल्वर मेडलिस्ट बेटियों के दीदार के लिए उमडे

8

न्यूज़घाट टीम। पांवटा साहिब

इंडोनेशिया में आयोजित हुई 18वीं एशियन गेम्स में महिला कबड्डी बैंक में भारत को सिल्वर मेडल दिलाने वाली शिलाई की बेटियां प्रियंका नेगी और रितु नेगी का शिलाई पहुंचने पर भव्य स्वागत किया गया।

इस अवसर पर सिरमौर कबड्डी एसोसिएशन द्वारा सम्मान समारोह कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में क्षेत्र के हजारों लोग अपनी सिल्वर मेडलिस्ट बेटियों के दीदार के लिए उमड़े।

इंडोनेशिया से लौटने के बाद पहली बार अपने गृह क्षेत्र पहुंची  कबड्डी खिलाड़ी प्रियंका नेगी और रितु नेगी का शिलाई आगमन पर  ढोल-नगाड़ों के साथ पारंपरिक तरीके से स्वागत किया गया। इस अवसर पर रितु नेगी व प्रियंका नेगी को मोमेंटो, शॉल व टोपी देकर सम्मानित किया गया। साथ ही शिलाई में कबड्डी के पितामह के नाम से मशहूर स्वर्गीय हीरा सिंह नेगी को भी याद किया गया।

कार्यक्रम के दौरान प्रियंका नेगी ने वहां उपस्थित युवा लड़के लड़कियों को जीत का मंत्र दिया। प्रियंका नेगी ने कहा कि बड़ों के आशीर्वाद और मेहनत के दम पर हर मुकाम को हांसिल किया जा सकता है। उन्होंने साथ ही युवाओं को नशे व मोबाइल की लत से बचने की सलाह दी।

प्रियंका नेगी ने कहा कि आप को जितना समय पढ़ाई के अलावा मिलता है उस समय खेलों का अभ्यास करें या आराम करें। मोबाइल व नशे की लत में पड़कर जीवन बर्बाद ना करें।
कार्यक्रम के दौरान सिरमौर कबड्डी संघ के अध्यक्ष कुलदीप राणा ने कहा कि शिलाई की बेटियां भारत का सम्मान है। यह शिलाई के लिए भी गर्व की बात है। उन्होंने प्रियंका नेगी और रितु नेगी को सिल्वर जीत के लिए बधाई देते हुए प्रदेश सरकार के समक्ष मांग रखी है कि हिमाचल में भी अंतरराष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ियों को हरियाणा की तर्ज पर सुविधाएं व नगद इनाम की व्यवस्था की जानी चाहिए।

वही इस अवसर पर शिलाई कॉलेज की प्रधानाचार्य, शिलाई के जैलदार प्रताप तोमर, प्रदेश क्रिकेट संघ के उपाध्यक्ष अतर सिंह नेगी और प्रियंका नेगी के चाचा रंजीत सिंह नेगी आदि ने भी चैंपियन बेटियों को बधाई दी और उनके उज्जवल भविष्य की कामना की।

Inside Post In Last

Leave A Reply

Your email address will not be published.