- Advertisement -

पांवटा साहिब में सामने आए चार बाल मजदूरी के मामले 

चाइल्ड हेल्पलाइन ने श्रम विभाग के साथ मिलकर की छापेमारी

न्यूज़घाट टीम। पांवटा साहिब

hids

पांवटा साहिब में धड़ल्ले से बाल मजदूरी का काम चल रहा है। जहां 14-15 वर्षीय बच्चों से 12 से 13 घंटे मजदूरी करवाई जा रही है।  मजदूरी के नाम पर इन बच्चों को महीने के 4 हजार रुपए थमाए जा रहे हैं। वहीं जिम्मेदार श्रम विभाग की बात करें तो बाल मजदूरी पर आंखें बंद किए बैठा है।

पांवटा साहिब में देर रात चाइल्ड हेल्पलाइन ने अपनी टीम व पुलिस  के साथ मिलकर मिलकर छापेमारी की गई जिसमें खालसा फूड पॉइंट पर चार बच्चे बाल मजदूरी करते हुए पाए गए।

इनमें से तीन की उम्र 14 साल के करीब है। इतना ही नहीं इन मासूम बच्चों से यहां पर 12 से 13 घंटे लगातार काम करवाया जा रहा है। इस बारे में चाइल्ड हेल्पलाइन की काउंसलर विनीता ठाकुर व उनकी टीम से राजेंद्र सिंह निशा ने बताया कि पांवटा साहिब के खालसा फूड़ पॉइंट पर जब छापेमारी की गई तो वहां चार बच्चे बाल मजदूरी करते हुए पाए गए।

मौके पर श्रम विभाग के इंस्पेक्टर ने दुकान के मालिक का चालान किया। वहीं चाइल्ड हेल्पलाइन ने बच्चों की काउंसलिंग की व सोमवार को फिर से चाइल्ड हेल्पलाइन इन बच्चों से मिल कर इनकी काउंसलिंग करेगी।

क्या कहा पीड़ित बच्चों ने

वहीं बच्चों ने चाइल्ड हेल्पलाइन को बताया कि वह यूपी और बिहार से है। गरीब परिवारों से ताल्लुक रखते हैं। जिसके कारण वह दिन-रात काम कर रहे हैं।

उन्होंने बताया कि 12 से 13 घंटे काम करने के बाद उन्हें महज 4 हजार रुपए दिए जाते हैं । वही देखने वाली बात यह है की श्रम विभाग के होते हुए भी खुलेआम पांवटा साहिब के होटल ढाबों और फूड फाइट्स पर बच्चों से काम लिया जा रहा है।

वहीं बाल मजदूरी के तहत ऐसे सभी आरोपियों पर कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जानी चाहिए।

hids

Leave A Reply

Your email address will not be published.